Wed 25 05 2022
Home / Breaking News / विधायक कराड़ा के प्रयास से एक साथ 25 मरीजों को मिलेगी सांस
विधायक कराड़ा के प्रयास से एक साथ 25 मरीजों को मिलेगी सांस

विधायक कराड़ा के प्रयास से एक साथ 25 मरीजों को मिलेगी सांस

– विधायक निधि से जिला अस्पताल पहुंची हाईक्वालिटी की आॅक्सीजन कंसनटेªटर प्रेषन मषीनें
शाजापुर। आॅक्सीजन की कमी और मरीजों के बिगड़ते हालात से प्रतिदिन जिला अस्पताल मेें कई जिंदगियां हार रही हैं। इसे देखते हुए गत दिनों विधायक हुकुमसिंह कराड़ा ने सहायता हेतु 25 लाख रूपए से मषीनें देने की घोषणा की थी। केवल घोषणा ही नहीं उन्होंने इस पर अमल भी किया और बुधवार को 1 लाख रूपए की लागत वाली करीब 25 आॅक्सीजन कंसनट्रेटर प्रेषर मषीने जिला अस्पताल पहुंची।
गौरतलब है प्रतिदिन जिला अस्पताल में आॅक्सीजन की कमी सामने आ रही थी और प्रतिदिन मरीजों की जान मुष्किल में पड़ रही थी। इसे लेकर गत दिनों बैठक हुई जिसमें मरीजों के हालात सुधारने और आॅक्सीजन की व्यवस्था किए जाने और मरीजों की जान बचाने के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा गया था। इस पर विधायक हुकुमसिंह कराड़ा ने सबसे पहले मरीजों के लिए आॅक्सीजन की व्यवस्था किए जाने और इसके लिए सिलेंडरों की निर्भरता खत्म करने की बात कही थी। यही नहीं उन्होंने विधायक निधि से उसी समय सहायता राषि हेतु पत्र भी लिखा था। अपनी इस घोषणा पर उन्होंने तत्काल अमल भी किया और आॅक्सीजन के लिए मषीनें मुहैया कराने हेतु प्रयास भी शुरू कर दिए थे और तुरंत मषीने खरीदी गई। जिन्हें बुधवार को जिला अस्पताल पहुंचा दिया गया। जिसे विधायक प्रतिनिधि आषुतोष शर्मा, पूर्व सीसीबी चेयरमेन वीरेंद्रसिंह गोहिल, जिला कांग्रेस प्रवक्ता पं. गोविंद शर्मा, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष सचिन पाटीदार, जुनैद खान ने जिला अस्पताल के चिकित्सक डाॅ. मालवीय को भेंट की।
कम जगह मे देगी ज्यादा फायदा
यह मषीन विद्युत से संचालित होगी और कम जगह घेरेगी ओर आॅक्सीजन की आपूर्ति करेगी। जिससे मरीजों को आॅक्सीजन की आपूर्ति हो सकेगी। अब तक जिला अस्पताल में आॅक्सीजन की व्यवस्था केवल सिलेंडरों पर ही निर्भर थी, लेकिन अब मषीनों से आॅक्सीजन पैदा होगी जिससे मरीजों का आॅक्सीजन लेबल भी बढ़ेगा जिससे अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों को काफी फायदा होगा।
जारी रहेगा सेवा का सिलसिला
श्री कराड़ा ने बताया कि उनकी विधानसभा का हर व्यक्ति उनके लिए महत्वपूर्ण है और उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी उनके लिए पहली प्राथमिकता में शामिल है। यह तो छोटा सा प्रयास है। यदि आगे भी मरीजों की सुविधा के लिए कोई सहयोग की आवष्यकता होगी तो वे इसके लिए प्रयास कर उसकी व्यवस्था जुटाने हेतु हर संभव प्रयास करेंगे।
0000000000

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*