Wed 25 05 2022
Home / Breaking News / लोक अदालत में सुलझा दो वर्ष पुराना विवाद
लोक अदालत में सुलझा दो वर्ष पुराना विवाद

लोक अदालत में सुलझा दो वर्ष पुराना विवाद

नेशनल लोक अदालत में निपटाए 1330 प्रकरण, 5 करोड़ से अधिक के अवार्ड पारित

शाजापुर,  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली के निर्देश पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, शाजापुर के तत्वावधान में लोक अदालत का आयोजन किया गया। नेशनल लोक अदालत में प्री-लिटिगेशन एवं अन्य प्रकरणों के निराकरण में  कुल 05 करोड़ 17 लाख 82 हजार 95 रुपए से अधिक के अवार्ड पारित किए गए। जिला न्यायालय शाजापुर एवं तहसील न्यायालय शुजालपुर/आगर/सुसनेर/नलखेड़ा में आयोजित लोक अदालत में पक्षकारों ने आपसी सहमति से अपने प्रकरणों का निराकरण कराया। विशेष न्यायाधीश कु. जसवीर कौर सासन  ने मॉ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर नेशनल लोक अदालत का शुभारंभ किया। जिला न्यायालय, शाजापुर एवं तहसील न्यायालय सहित शुजालपुर/आगर/सुसनेर/नलखेड़ा में कुल 20 खण्डपीठों का गठन किया गया था। लोक अदालत में न्यायालय में लंबित राजीनामा योग्य सिविल व आपराधिक मामले एवं अपीलीय मामले प्रीलिटिगेशन मामले बैंक, विद्युत एवं नगरपालिका के मामले रखे गये। सुबह से ही न्यायालय परिसर में पक्षकारों का पहुंचना शुरु हो गया था। अपनी-अपनी खंडपीठों के समक्ष लोग अपने मामलों का राजी-खुशी निराकरण करवाएं।

2778 प्रकणों में आवार्ड पारित

नेशनल लोक अदालत में प्रीलिटिगेशन के 929 एवं न्यायालयीन लंबित मामलों के 401 प्रकरण निराकृत किए। 05 करोड़ 17 लाख 82 हजार 95 रुपए के अवार्ड राशि पारित की गई। इन प्रकरणों में विद्युत अधिनियम मोटर दुर्घटना दावा, निगोशियेबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट, कुटुम्ब, ग्राम एवं राजस्व न्यायालय, भू-अर्जन आदि के प्रकरण शामिल हैं।

विद्युत विभाग को मिले 18 लाख 54 हजार 517 रूपए

लोक अदालत में प्री-लिटिगेशन विद्युत विभाग के 41 प्रकरणों में 06 लाख 60 हजार 876 रूपए तथा पेंडिंग विद्युत बिलों के 81 प्रकरणों में 11 लाख 93 हजार 641 रुपये, कुल मिलाकर लगभग 18 लाख 54 हजार 517 रूपए की वसूली हुई। इसी प्रकार नगरपालिका से संबंधित जलकर के 652 प्रकरणों में 34 लाख 11 हजार 127 रुपए की वसूली लोक अदालत के माध्यम से की गई।

मोटर दुर्घटना के मामले भी निपटे

लोक अदालत में मोटर दुर्घटना बीमा से संबंधित 33 प्रकरणों में 01 करोड 33 लाख 92 हजार की दावा राशि का निराकरण किया गया। इसी प्रकार चेक बाउंस के 130  प्रकरणों में 01 करोड़ 83 लाख 57 हजार 24 रूपए तथा बैंकों से संबंधित 03 अन्य प्रकरणों में 05 लाख 34 हजार 77 रुपए के मामलों का निराकरण किया गया। जिसमें कुल अवार्ड राशि 05 करोड़ 17 लाख 82 हजार 95 रुपए पारित हुई तथा कुल 1025 व्यक्ति लाभांवित हुए।

यह थे उपस्थित

इस मौके पर न्यायाधीश कु. जसवीर कौर सासन, श्री प्रवीण शिवहरे, श्री अनिल कुमार नामदेव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री राजेन्द्र देवड़ा, श्री आशीष परसाई,, सुश्री हर्षिता सिंगार, श्रीमती प्रिन्सी अग्रवाल, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष श्री अनिल आचार्य, एवं अन्य अधिवक्ता, न्यायालय के कर्मचारीगण भी मौजूद थे। लोक अदालत में शाम 5 बजे तक कई प्रकरणों में राजीनामा करवाया गया।

पति-पत्नी में हुईं सुलहएक दूसरे को पहनाई माला

शराब के कारण पत्नी और पुत्र से दूर हुए युवक ने लोक अदालत में समझौता कर शराब छोडक़र अपने परिवार के साथ सुखमय जीवन यापन करने का संकल्प लिया। 11 फरवरी 2020 को बबीताबाई निवासी ग्राम बोलाई एवं उसके पुत्र संजू ने अकोदिया थाने पर शिकायत दर्ज कराई थी कि जगदीश दरिया शराब पीने का आदी है और वह घर में शराब के पीने के लिए रुपए की मांग करता है और रुपया नही देने पर प्रतिदिन लाठियों से मारपीट करता है। पुलिस ने मामले में जगदीश के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया। प्रकरण न्यायालय प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट नीरज अग्रवाल के समक्ष विचारणीय था। इसीके साथ पत्नी ने अन्य प्रकरण भी पति के विरुद्ध लगा रखे थे, लेकिन लगभग दो वर्ष बाद शनिवार को लोक अदालत में जब बबीता और संजू जिला न्यायालय शाजापुर में पहुंचे तो अभिभाषक सईद पठान, जावेद पठान, सावेद पठान बेरछा के प्रयासों से आपसी समझाईश के बाद न्यायाधीश राजेन्द्र देवड़ा, नीरज अग्रवाल ने पति को कभी शराब नही पीने का संकल्प दिलाया और राजीनामा कराकर दोनों पति-पत्नी के मध्य 2 वर्षों से चले आ रहे विवाद को विशेष न्यायाधीश जसवीर कौर की मौजूदगी में समाप्त किया। इस दौरान पति-पत्नी को पुष्पमाला पहनाकर सुखमय दांपत्य जीवन जीने के लिए राजीमर्जी से घर के लिए रवाना किया गया। इस अवसर पर अधिवक्ता सुनील परमार, विधिक सेवा प्राधिकरण शाजापुर से योगेंद्रसिंह ठाकुर, मनोहर मालवीय, जैद खान आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*