Tue 28 06 2022
Home / Breaking News / खिडक़ी की टान पर रख दिया शासकीय रिकार्ड, पूछा तो बोले मैं तो नौकरी छोडऩा चाहता हूं
खिडक़ी की टान पर रख दिया शासकीय रिकार्ड, पूछा तो बोले मैं तो नौकरी छोडऩा चाहता हूं

खिडक़ी की टान पर रख दिया शासकीय रिकार्ड, पूछा तो बोले मैं तो नौकरी छोडऩा चाहता हूं

शाजापुर। कृषि साख सहकारी संस्था में सरकारी रिकार्ड को रखने में बड़ी लापरवाही बरती जा रही है। वहीं जिम्मेदार इस बात पर शर्मिंदा होने की बजाय नौकरी छोडऩे की बात कह रहे हैं। सतगांव की प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था  खेरखेड़ी में किसानों का लेखा जोखा और उनका संधारित रिकार्ड धूल और धूप में रखा जा रहा है। इस बारे में संस्था के प्रबंधक से चर्चा की गई तो उनका कहना था कि रिकार्ड को खुले में रखना कोई लापरवाही नही है। वैसे भी मैं तो नौकरी छोडऩा चाहता हूं। गौरतलब है कि कृषि साख सहकारी संस्थाओं में किसानों का सारा लेखा-जोखा होता है। यदि शासन किसानों केा मुआवजा प्रदान करता है तो उसकी सारी रिपोर्ट और जानकारी संस्थाओं में प्रबंधक के हवाले होती है। ये रिकार्ड उस समय काम आते हैं जब किसी किसान को मुआवजा नहीं मिला हो या उसके हक पर किसी ने डाका डाल लिया हो, लेकिन सतगांव की सहकारी संस्था में किसानों के लेखे जोखे ही मिटाने पर जिम्मेदार आमदा हैं। यही कारण है कि यहां सारा रिकार्ड धूप, धुल और बारिश के हवाले किया हुआ है। जब इस मामले में संस्था प्रबंधक से चर्चा की गई तो उनका कहना था कि सफाई की थी तो रिकार्ड बाहर रख दिया होगा, यह कोई लापरवाही नही है।
इनका कहना है
कार्यालय के बाहर शासकीय दस्तावेज रखे हुए हैं जो सफाई में रख दिए होंगे। मैं तो खुद नौकरी छोडऩा चाहता हूं,  लेकिन मुझे छोडऩे ही नहीं दे रहे। दो बार लिखकर भी दे चुका हूं।
-सज्जनसिंह, प्रबंधक प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था खेरखेड़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*