Wed 25 05 2022
Home / Breaking News / जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने जेल का निरीक्षण कर बंदियों की समस्याएं सुनी
जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने जेल का निरीक्षण कर बंदियों की समस्याएं सुनी

जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने जेल का निरीक्षण कर बंदियों की समस्याएं सुनी

शाजापुर। मप्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार एवं सर्वोच्च न्यायालय द्वारा रिट पिटीशन आरडी उपाध्याय विरुद्ध आंध्रप्रदेश राज्य एवं अन्य में दिए गए निर्देश के पालन में प्रधान जिला न्यायाधीश सुरेन्द्रकुमार श्रीवास्तव, न्यायाधीश राजेन्द्र देवड़ा, जिला विधिक सहायता अधिकारी फारूक अहमद सिद्दीकी ने शाजापुर जिला जेल का गतदिनों निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान विशेष रूप से सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश के पालन में महिला बंदियों एवं उनके साथ निवासरत 06 वर्ष से कम आयु के बच्चों को दिए जा रहे भोजन, वस्त्र, चिकित्सा, शिक्षा मनोरंजन के साधन आदि के संबंध में जेल प्रशासन एवं महिला बंदियों से जानकारी ली। साथ ही प्रधान जिला न्यायाधीश श्रीवास्तव के द्वारा महिला एवं पुरूष बंदियों की पृथक-पृथक बैरकों में जाकर समस्याएं सुनी गईं और अधिक समय से निरूद्ध जेल बंदियों के प्रकरणों की शीघ्र सुनवाई हेतु संबंधित न्यायालय को आवश्यक निर्देश प्रसारित करने का आश्वासन दिया। जिला न्यायाधीश एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाजापुर राजेन्द्र देवड़ा द्वारा जेल बंदियों को विधिक सहायता के माध्यम से नि:शुल्क अधिवक्ता उपलब्ध कराने, अपील का अधिकार, प्लीवार्गेनिंग योजना की जानकारी दी गई। इस दौरान जेल प्रशासन द्वारा अवगत कराया गया कि जेल में कोई भी महिला चिकित्सक नियमित रूप से महिला बंदियों की जांच के लिए उपस्थित नहीं होती हैं। इसी प्रकार पुरूष बंदियों के लिए भी कोई भी चिकित्सक नियमित रूप से जेल में उपस्थित नहीं होते हैं। इस संबंध में न्यायाधीशों द्वारा आवश्यक कार्रवार्ई करने हेतु निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। जेल बंदियों ने जेल में भोजन, वस्त्र से संबंधित कोई समस्या नहीं होना बताया, लेकिन पेयजल व्यवस्था पर्याप्त नहीं होने के संबंध में जानकारी दी। इस मौके पर प्राधिकरण कर्मचारी मनोहरसिंह मालवीय, योगेन्द्रसिंह ठाकुर, जेल अधीक्षक गोपाल गोतम सहित जेल कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*