Tue 24 05 2022
Home / Breaking News / बिजली कंपनी के कनिष्ठ यंत्री पर झूठा प्रकरण बनाकर रिश्वत लेने का आरोप, पीडि़त ने उर्जा मंत्री से की शिकायत
बिजली कंपनी के कनिष्ठ यंत्री पर झूठा प्रकरण बनाकर रिश्वत लेने का आरोप, पीडि़त ने उर्जा मंत्री से की शिकायत

बिजली कंपनी के कनिष्ठ यंत्री पर झूठा प्रकरण बनाकर रिश्वत लेने का आरोप, पीडि़त ने उर्जा मंत्री से की शिकायत

शाजापुर। मनमाने बिजली बिल थमाकर उपभोक्ताओं को परेशान करने वाली विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों ने अब झूठे प्रकरण बनाकर अपनी जेब भरने के लिए रिश्वतखौरी का धंधा चलाना शुरू कर दिया है। शहर में रिश्वतखौरी करने वाले अधिकारी और कर्मचारियों की पीडि़त ने उर्जा मंत्री सहित विभागीय अधिकारियों से भी शपथ बनाकर शिकायत की है, लेकिन एक पखवाड़े से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी मामले में किसी तरह की कोई किया जाना सामने नही आया है। शहर के भोईबाड़ में रहने वाले असलम कुरैशी पिता अकबर हुसैन ने उर्जा मंत्री के नाम दिए गए शिकायती आवेदन में बताया कि उसने कृषि यंत्र वर्कशॉप कारखाने के लिए 06 अगस्त 2021 को श्रम कार्यालय से लाइसेंस लिया इसके बाद बेरछा रोड स्थित बिजली कंपनी कार्यालय पर एक गैर घरेलू विद्युत कनेक्शन 09 अगस्त 21 को विधिवत और नियमानुसार विद्युत शुल्क जमा कर लिया गया, लेकिन इसके बाद भी बिना सूचना के 15 अगस्त 21 को शाजापुर शहर विद्युत वितरण कनिष्ठ यंत्री बलराजशरण तिवारी, कर्मचारी प्रवीण हर्बल कारखाने पर आए झूठा पंचनामा बनाकर तत्काल 1 लाख 64420 रुपए जमा करने को कहा, जिसकी शिकायत बिजली कंपनी कार्यालय लालघाटी पर की गई। इसके बाद बलराज तिवारी ने दोबारा से रिश्वत लेने के चक्कर में पंचनामे के 38 दिन बाद कारखाने का मीटर काटकर उसे उज्जैन पहुंचाया दिया, जहां जांच में मीटर में किसी भी तरह की छेड़छाड़ करना सामने नही आया, किंतु इसके बाद भी बलराज तिवारी, प्रवीण हर्बल और श्याम रावल पंचनामा निरस्त करने तथा प्रकरण का निपटान करने के लिए रिश्वत हेतु दबाव बनाने लगे। परेशान होकर असलम ने माजिद के माध्यम से बलराज तिवारी, प्रवीण हर्बल और श्याम रावल को बिजली कंपनी कार्यालय लालघाटी के सामने चाय की गुमटी पर पांच हजार रुपए की रिश्वत प्रकरण समाप्त करने के लिए दिए, किंतु रुपया लेने के बाद भी प्रकरण को समाप्त नही किया गया।
इनका कहना है
शिकायत करने वाले को शिकायत करने का अधिकार है, उसमें मैं क्या कर सकता हूं। मामले की जांच वरिष्ठ कार्यालय द्वारा की जा रही है।
-बलराज तिवारी, कनिष्ठ यंत्री विविकं शाजापुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*