Wed 08 12 2021
Home / Breaking News / विज्ञान गतिविधियों के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से प्रशिक्षण सम्पन्न
विज्ञान गतिविधियों के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से प्रशिक्षण सम्पन्न

विज्ञान गतिविधियों के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से प्रशिक्षण सम्पन्न

विद्यार्थियों में विज्ञान गतिविधियों के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से शासकीय उ मा वि क्र.2 में विकासखंड व संकुल विज्ञान  प्रभारी शिक्षको का प्रशिक्षण सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण को जिला शिक्षा अधिकारी अभिलाष चतुर्वेदी, जिला नोडल अधिकारी ओपी कारपेंटर, जिला विज्ञान अधिकारी दिनेश चंद्र सोनी तथा विकासखंड शिक्षा अधिकारी प्रवीण कुमार मंडलोई तथा प्राचार्य श्रीमती अनिता श्रीवास्तव ने संबोधित किया।  इस प्रशिक्षण के लिय नीति आयोग से अटल इनोवेशन मिशन में टीचर ऑफ चेंज श्री शैलेंद्र कसेरा के द्वारा इस प्रतियोगिता में आइडिया जमा करने में आने वाली समस्या और आइडिया

चयन संबंधी बिंदुओं पर विस्तृत जानकारी प्रदान की। इसके साथ ही इस वर्कशॉप में इन्सपायर अवार्ड मानक प्रतियोगिता की चयन प्रक्रिया के प्रत्येक चरण को समझाया गया। जिसमे प्रतियोगिता भाग लेने के लिए देश से कक्षा 6 से 10वी के विद्यार्थियों के द्वारा अपने आसपास रोजमर्रा में जीवन में आने वाली समस्याओं के विज्ञान के द्वारा समाधान आइडिया के रूप में जमा किये जाते है। पूरे देश से प्राप्त होने वाले आइडियाओ में से 10 लाख बच्चों के दिए गए आइडिया का चयन किया जाता है। साथ ही उन्हें दिए गए आइडिया का प्रोटोटाइप (विज्ञान मॉडल) विकसित करने के लिए 10 हजार रुपये भी  दिए जाते है। इन बच्चों के लिये जिलास्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है और पुरे देश से इस स्तर में 1 लाख बच्चों का चयन राज्यस्तर के लिए किया जाता है। राज्यस्तरीय प्रतियोगिता के माध्यम से पूरे देश के विभिन्न राज्यो से 10 हजार बच्चों का चयन दिल्ली में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय इन्सपायर अवार्ड के लिए किया जाता हैं। इन 10 बच्चों के आइडिया में से श्रेष्ठ 1 हजार आइडिया का चयन राष्ट्रीय स्तर पर एवं सर्वश्रेष्ठ 60 विज्ञान मॉडल वाले बच्चो को स्वयं राष्ट्रपति के द्वारा सम्मानित किया जाता है। इसके साथ ही सकुरा एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जापान में होने वाली सकुरा विज्ञान प्रदर्शनी में भाग लेने का मौका मिलता है।
इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस जिला समन्वयक व सहायक जिला विज्ञान अधिकारी ओम प्रकाश पाटीदार ने उपस्थित शिक्षको ने राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस के पंजीयन व प्रोजेक्ट निर्माण की जानकारी प्रदान करते हुवे बताया कि भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आयोजित प्रतियोगिता के लिए 10 से 17 आयुवर्ष के बच्चे भाग ले सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*