Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / शासकीय सेवा भूमि पर किसी भी पुजारी अथवा कोटवार का नाम दर्ज नहीं करें- कलेक्टर श्री जैन
शासकीय सेवा भूमि पर किसी भी पुजारी अथवा कोटवार का नाम दर्ज नहीं करें- कलेक्टर श्री जैन

शासकीय सेवा भूमि पर किसी भी पुजारी अथवा कोटवार का नाम दर्ज नहीं करें- कलेक्टर श्री जैन

सखेड़ी पटवारी के दो वेतनवृद्धियां रोकने के निर्देश

पोलायकलां तहसील को आदर्श बनाने के लिए चल रहे अभियान की कार्रवाई देखने कलेक्टर ने ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा किया

       शाजापुर, राजस्व सेवा अभियान के तहत दूसरे चरण में 01 फरवरी से 31 मार्च 2021 तक पोलायकलां तहसील को आदर्श बनाने के लिए चल रही गतिविधियों का निरीक्षण करने के लिए कलेक्टर श्री दिनेश जैन ने 8 ग्रामों मुरादपुर लोंदिया, सेमलीचाचा, सखेड़ी, मकोड़ी, खाटसुर, निवालिया, बटवाड़ी एवं खड़ी का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान शुजालपुर अनुविभागीय अधिकारी श्री प्रकाश कस्बे, ग्राम मुरादपुर लोंदिया एवं सेमलीचाचा में संयुक्त कलेक्टर श्रीमती शैली कनाश, ग्राम सखेड़ी एवं मकोड़ी में डिप्टी कलेक्टर श्री अजीत श्रीवास्तव, प्रभारी तहसीलदार पोलायकलां श्री संदीप श्रीवास्तव, नायब तहसीलदार सुंदरसी श्री अजय अहिरवार ग्राम खाटसुर, निवालिया, बटवाड़ी एवं खड़ी में नायब तहसीलदार अकोदिया श्री मुकेश सांवले भी उपस्थित थे।

इन ग्रामों में पटवारियों के अभिलेख के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्री जैन ने सभी पटवारियों को निर्देश दिये कि मंदिरों एवं कोटवारों को सेवा भूमि के रूप में दी गई भूमि को राजस्व रिकार्ड में शासकीय सेवा भूमि के रूप में दर्ज करें। इस भूमि पर किसी भी पुजारी या कोटवार का नाम नहीं लिखें। कलेक्टर ने इन ग्रामों में ग्रामीणजनों से कहा कि शासकीय सेवकों की नियुक्ति आम जनता के काम के लिए होती है। शासकीय सेवकों का दायित्व है कि वे आम जनता के कार्यों को समय पर एवं व्यवस्थित तरीके से पूर्ण करे। इस दौरान कलेक्टर ने ग्रामीणों से उनकी राजस्व संबंधी शिकायतों की जानकारी ली। साथ ही कलेक्टर ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना एवं मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना का लाभ मिल रहा है या नहीं इसकी भी जानकारी ग्रामीणों से ली। कलेक्टर ने सभी राजस्व अधिकारियों से कहा कि पोलायकलां तहसील को राजस्व संबंधी कार्यों के लिए आदर्श बनाने की कार्रवाई समय पर पूरी करें। कोई भी किसान की राजस्व संबंधी शिकायत या समस्या लंबित नहीं रखें। सभी किसानों एवं भूमि स्वामियों से संपर्क कर उनके अविवादित नामांतरण एवं बटवारा के कार्यों को पूरा करें। सार्वजनिक उपयोग के लिए जमीनों का चिन्हांकन कर आरक्षित करें। शासकीय भवनों एवं भूमियों को भी चिन्हांकित कर राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें। शासकीय भूमि से अतिक्रमण हटवाएं। पट्टाधारियों को उनका कब्जा वापस दिलवाएं। किसी भी तरह की राजस्व संबंधित शिकायतें अभियान के पश्चात लंबित नहीं रहना चाहिये। यदि शिकायतें लंबित पायी जायेगी तो संबंधितों के विरूद्ध कार्यवाही करेंगे। कलेक्टर ने सभी उपभोक्ताओं से शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से माह की 07 तारीख को अन्न उत्सव के दौरान खाद्य सामग्री प्राप्त करने का अनुरोध किया।

सेमलीचाचा में सेवा भूमि पर कोटवार का नाम राजस्व रिकार्ड से हटाने के निर्देश कलेक्टर ने पटवारियों को दिये। ग्राम पंचायत की जीर्ण-शीर्ण भवन के नवनिर्माण के लिए प्रस्ताव तैयार करने के लिए सरपंच से कहा। सेमलीचाचा से मुरादपुरा लोंदिया की सड़क में निजी भूमि आने से निर्माण कार्य रूकने की शिकायत ग्रामवासियों द्वारा की गई। कलेक्टर श्री जैन ने निरीक्षण करने के निर्देश दिये हैं। ग्राम सखेड़ी में कोटवार की 20 बीघा सेवा भूमि पर अन्य व्यक्ति का कब्जा होने तथा एक व्यक्ति का सीमांकन कई दिनों से लंबित रखने पर कलेक्टर ने क्षेत्र के पटवारी सूर्यप्रकाश परमार की कार्यप्रणाली पर नाराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल प्रभाव से दो वेतन वृद्धियां रोकने के निर्देश अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री कस्बे को दिये। कलेक्टर ने सभी राजस्व अधिकारियों से कहा कि राजस्व संबंधी कार्य के लिए आवेदन का इंतजार नहीं करें बल्कि ग्रामीणों से संपर्क कर उनके राजस्व संबंधी समस्याओ या कार्यों की जानकारी लें तथा स्वयं उनसे आवेदन प्राप्त कर कार्यवाही सुनिश्चित करें। ग्राम मकोड़ी में कलेक्टर ने पटवारी को निर्देश दिये कि 25 मार्च तक सभी शासकीय भवनों एवं भूमियों की प्रविष्टि राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें अन्यथा कार्यवाही की जायेगी। इस ग्राम में भूमि के नक्शे एव रिकार्ड में त्रु‍टि होने की ग्रामीणों द्वारा शिकायत करने पर कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारी को दल बनाकर 15 दिन में रिकार्ड दुरूस्त करने के निर्देश दिये। ग्राम खाटसुर में भी ग्रामीणों ने ग्राम का राजस्व नक्शा सुधार करने का अनुरोध किया। कलेक्टर ने यहां भी दल बनाकर नक्शा दुरूस्त करने के निर्देश दिये। यहां ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम में 5 तालाब हैं। किन्तु इनमें पानी नहीं रूकता है। एक ग्रामीण ने बताया कि ग्राम के चार तालाबों को मछली पालन के लिए पट्टे पर दिया गया है। पट्टाधारियों द्वारा मछली पालन न करते हुए तालाब का पानी बहाकर उस पर खेती की जा रही है। कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारियों को जाँच करने के निर्देश दिये। एक ग्रामीण महिला ने शिकायत की कि पूर्व में पदस्थ पटवारी द्वारा गलत पंचनामा रिपोर्ट बनाकर उसके पिताजी की भूमि से उसका नाम हटा दिया है। कलेक्टर ने इसकी भी जाँच करने एवं गलत पंचनामा बनाने वाले पटवारी के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिये। इसी तरह ग्राम निवालिया, बटवाड़ी एवं खड़ी में भी कलेक्टर ने ग्रामीणों से चर्चा कर उनके राजस्व संबंधी कार्यों की जानकारी ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*