Sat 27 11 2021
Home / Breaking News / सहकारी बैंक बंद करने के आदेश से नाराज किसानों ने किया कलेक्टर बंगले का घेराव
सहकारी बैंक बंद करने के आदेश से नाराज किसानों ने किया कलेक्टर बंगले का घेराव

सहकारी बैंक बंद करने के आदेश से नाराज किसानों ने किया कलेक्टर बंगले का घेराव

शाजापुर। कोरोना कफ्र्यू के चलते सहकारी बैंक को प्रशासन द्वारा बंद किए जाने के आदेश से नाराज होकर किसानों ने कलेक्टर निवास का घेराव कर दिया। बड़ी संख्या में घेराव करने पहुंचे किसानों को समस्या का हल किए जाने का आश्वासन देकर शांत कराया। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर सोमवारिया बाजार स्थित सहकारी बैंक में कलेक्टर दिनेश जैन ने मंगलवार को आदेश जारी करते हुए 24 मई की सुबह 6 बजे तक के लिए लेनदेन पर रोक लगाई है। इस आदेश के बाद बुधवार सुबह बड़ी संख्या में आक्रोशित किसान कलेक्टर निवास का घेराव करने जा पहुंचे और विरोध प्रदर्शन किया। किसानों का कहना है कि प्रशासन द्वारा बैंकों के बाहर भीड़ जमा न हो इसको लेकर बैंकों में लेनदेन काउंटर की संख्या बढ़ाई जाना चाहिए थी, लेकिन ऐसा नही करते हुए बैंक को बंद करने का फरमान सुना दिया जिसकी वजह से किसानों को लेनदेन करने में भारी असुविधा का सामना करना पड़ा। इधर किसानों के नाराज होकर प्रदर्शन करने की खबर लगते ही तहसीलदार राजाराम करजरे और कोतवाली एएसआर्ई सैयद मेहमूद अली मौके पर पहुंचे और किसानों को आश्वास्त किया कि जल्द ही समस्या को हल किया जाएगा, जिसके बाद मामला शांत हुआ।
बैंक के बाहर लगती है भीड़
उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रशासन ने कोरोना कफ्र्यू लागू किया है। कफ्र्यू के दौरान बैंक को प्रतिबंध से मुक्त रखा गया था, लेकिन सोमवारिया बाजार स्थित सहकारी बैंक के बाहर हर दिन सैकड़ों किसानों की भीड़ कोविड गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाते हुए जमा हो रही थी जिससे संक्रमण फैलने का अंदेशा बढ़ गया था। ऐसे में कलेक्टर ने सहकारी बैंक में लेनदेन के काम को 24 मई तक के लिए बंद करने के आदेश जारी कर दिए। बुधवार सुबह जब किसान लेनदेन करने बैंक पहुंचे और उन्हे पता चला कि कलेक्टर ने बैंक से लेनदेन को बंद किया है तो वे आक्रोशित होकर टंकी चौराहा स्थित कलेक्टर बंगले का घेराव करने जा पहुंचे। हालांकि तहसीलदार करजरे और एएसआई अली की समझाईश के बाद किसान शांत हुए और अपने घर लौट गए।
इनका कहना है
सहकारी बैंक में लेनदेन प्रक्रिया बंद करने पर किसान कलेक्टर बंगले पर पहुंचे थे। किसानों को आश्वासन दिया गया है कि उनकी समस्या का एक से दो दिनों में हल निकाला जाएगा।
-राजाराम करजरे, तहसीलदार शाजापुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*