Wed 18 05 2022
Home / Breaking News / शासकीय भवनों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें
शासकीय भवनों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें

शासकीय भवनों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें

राजस्व अभियान के तहत ग्राम ईमलीखेड़ा में लगाए गए शिविर का कलेक्टर ने किया निरीक्षण

शाजापुर। शासकीय भवनों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें। उक्त निर्देश कलेक्टर दिनेश जैन ने गतदिनों जिले में चल रहे राजस्व अभियान के तहत ग्राम ईमलीखेड़ा में लगाए गए शिविर के निरीक्षण के दौरान दिए। कलेक्टर ने राजस्व निरीक्षक एवं पटवारी को निर्देश दिए कि ग्राम में मौजूद शासकीय स्कूल, आंगनवाड़ी आदि के भवनों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज करें। उन्होने ग्रामीणों को बताया कि राजस्व विभाग द्वारा कई सेवाओं को ऑनलाइन किया गया है। कोई भी व्यक्ति अपने भूमि से संबंधित पावती, खसरा बी-1, रिकार्ड में संशोधन जैसे कार्य ऑनलाइन करा सकते हैं। कलेक्टर जैन ने ग्रामीणों को बताया कि प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के तहत ग्रामों का ड्रोन के माध्यम से सर्वे कर नक्शा बनाया जाएगा। नक्शे के आधार पर ग्रामीणों को आवासीय जमीन का मालिकाना हक संबंधी अधिकार पत्र दिया जाएगा। मालिकाना हक प्राप्त होने के बाद ग्रामीण अधिकार पत्र से ऋण प्राप्त कर सकते हैं। अधिकार पत्र के माध्यम से जमीन का विक्रय कर सकते हैं। कलेक्टर ने ग्रामीणों से कहा कि राजस्व से संबंधित नामांतरण, फौती नामांतरण, बटवारा, रिकार्ड सुधार आदि के काम करने के लिए प्रत्येक गुरुवार चयनित ग्रामों में शिविर लगाए जाते हैं। ग्रामीण जन शिविर में आवेदन देकर अपना राजस्व से संबंधित कार्य करवा सकते हैं। सभी लोगों को अपनी भूमि के रिकार्ड को दुरूस्त रखना चाहिए। साथ ही उन्होने मुख्यमंत्री आवासीय भू अधिकार योजना के संबंध में बताते हुए कहा कि जिन परिवारों में सदस्यों की संख्या अधिक है और रहने के लिए स्थान कम है, ऐसे लोगों को राज्य शासन की इस योजना के तहत 60 वर्ग मीटर का आवासीय पट्टा दिया जाएगा। इसके लिए कलेक्टर ने पटवारियों को ग्राम पंचायत के सचिवों के साथ ग्रामों का सर्वे कर कम से कम 10-10 प्रकरण बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने रोजगार सहायक को सभी पात्र लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाने के भी निर्देश दिए। प्रधानमंत्री कृषक समृद्धि योजना एवं मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना का ग्रामीणों को लाभ मिल रहा है या नहीं,  इसकी भी जानकारी ली। कलेक्टर ने प्रधानमंत्री कृषक समृद्धि योजना का सोशल ऑडिट करने एवं अपात्र लोगों से वसूली करने के निर्देश दिए। इस मौके पर ग्राम ईमलीखेड़ा में मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि राजस्व संबंधी कामों के लिए उन्हे तहसील कार्यालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ते वे अब एमपी ऑनलाइन के माध्यम से ऋण पुस्तिका निकला लेते हैं। कलेक्टर ने पटवारी को निर्देश दिए कि राजस्व संबंधी ऑनलाइन सुविधाओं के संबंध में ग्राम में प्रचार-प्रसार कर ग्रामीणों को बताएं। ग्राम के रमेशचन्द्र ने ऋण पुस्तिका में नाम सुधार करने का अनुरोध किया। ग्रामीणों ने बताया कि श्मशान भूमि पर अतिक्रमण है। इस पर कलेक्टर ने आरआई को सीमांकन कराने के निर्देश दिए। ग्राम कादीखेड़ी एवं ईमलीखेड़ा के ग्रामीणों ने ग्राम की विद्युत समस्या के बारे में जानकारी दी। कलेक्टर ने ग्राम के प्रधान को 01 से 05 मार्च तक वृक्षारोपण कराने के लिए कहा। कलेक्टर ने ग्राम के सचिव को निर्देश दिए कि पेंशन आपके द्वार योजना के तहत पेंशन पाने वाले हितग्राहियों को पोस्टमैन के माध्यम से पेंशन का वितरण कराएं। उन्होने सचिव को रूट चार्ट बनाकर पोस्टमैन को देने के लिए कहा। साथ ही उन्होने सचिव को निर्देश दिए कि पेंशन पाने वाले हितग्राहियों को पेंशन के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़े उन्हें घर बैठे ही पोस्टमैन के माध्यम से पेंशन मिलने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*