Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / राजस्व के मामलों में अपेक्षित प्रगति हासिल नहीं करने पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी
राजस्व के मामलों में अपेक्षित प्रगति हासिल नहीं करने पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी

राजस्व के मामलों में अपेक्षित प्रगति हासिल नहीं करने पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी

शाजापुर। गुलाना तहसील को राजस्व के मामलों में आदर्श बनाने के चल रहे अभियान में लगभग एक माह गुजर जाने के बाद भी उल्लेखनीय प्रगति हासिल नहीं कर पाने पर कलेक्टर दिनेश जैन ने पटवारियों, राजस्व निरीक्षकों एवं राजस्व अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त करते हुए तय समय सीमा में गुलाना तहसील के सभी ग्रामीणों के राजस्व संबंधित शत प्रतिशत कार्य पूरे करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि काम में लापरवाही बरतने वाले पटवारियों एवं राजस्व निरीक्षकों सहित जबावदार राजस्व अधिकारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। उल्लेखनीय है कि गुलाना तहसील के 82 गांव को राजस्व के मामलों में आदर्श बनाने के लिए 02 नवंबर से 31 दिसंबर तक अभियान चलाया जा रहा है।   अभियान के दौरान अब तक की गई कार्रवाई की मैदानी हकीकत देखने के लिए गत दिवस कलेक्टर दिनेश जैन ने गुलाना तहसील के ग्राम अय्यापुर, भैंसरोद, कुड़ाना, सिमरोल शु एवं पहुंचे थे। इस दौरान उन्होने सभी पटवारियों और राजस्व निरीक्षकों द्वारा किए गए कार्यों की समीक्षा की। कलेक्टर ने प्रभारी बनाए सभी डिप्टी कलेक्टर को भी निर्देश दिए कि वे कार्यों की समीक्षा गंभीरता के साथ करें। पटवारी एक-एक ग्रामीण से मिलें और उसके राजस्व संबंधी कार्यों की जानकरी लें। राजस्व अभिलेख में सुधार के उपरांत संबंधित को खसरा एवं बी-1 की प्रति भी प्रदान करें। किसी भी व्यक्ति का कोई भी राजस्व संबंधी कार्य शेष नही रहना चाहिए। अभियान सम्पन्न होने के बाद यदि किसी व्यक्ति का नामांतरण, बटवारा, सीमांकन जैसे अन्य कार्य शेष रहते हैं तो संबंधित जवाबदार के विरूद्ध सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि गुलाना तहसील में 82 गांव हैं जिन्हे 44 हल्के में विभाजित किया गया है। इस दौरान कलेक्टर ने सभी को निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में जितने भी शासकीय परिसम्पत्तियां हैं उसे खसरे में क्षेत्रफल सहित दर्ज करें। शासकीय पट्टेधारियों का वास्तव में भूमि पर कब्जा है या नहीं, देखें और यदि कब्जा न हो तो उसे कब्जा दिलाएं। जैसे ही भूमि स्वामी की मृत्यु होती है, पटवारी स्व विवेक से फौरन फौती नामांतरण का प्रकरण बनाएं, वारिसों के आवेदन का इंतजार न करें। सभी पटवारी अनिवार्य रूप से सप्ताह में 3 दिन अपने पटवारी हल्का मुख्यालय पर उपस्थित रहें। सबसे पहले ग्राम अय्यापुर पहुंचे कलेक्टर ने यहां मौजूद पटवारी सौरभ श्रीवास्तव एवं आरआई सुश्री आरती गोयल से कार्यों की जानकारी ली। इनके द्वारा लक्ष्य अनुरूप कार्य नहीं करने पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की और पटवारी की दो वेतन वृद्धि एवं आरआई की एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए। ग्राम भैंसरोद में कार्यों के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने पटवारी के कार्य की धीमी प्रगति होने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होने अनुविभागीय अधिकारी साहबलाल सोलंकी को निर्देश दिए कि कार्य के प्रति लापरवाह पटवारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करें। ग्राम सिमरोल शु में कलेक्टर ने मांगलिक भवन में अवैध रूप से रह रहे व्यक्ति से मांगलिक भवन खाली कराने के निर्देश दिए। रिक्त पड़े ईजीएस भवन में पटवारी का दफ्तर शुरू करने के लिए कहा। इसी तरह ग्राम पाड़ली में भी कलेक्टर ने पटवारियों एवं राजस्व अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए।
गुलाना तहसील को आदर्श बनाने के लिए चार भागों में बांटा
गुलाना तहसील को आदर्श बनाने के लिए इसके ग्रामों को चार भागों में बांटा गया है। सभी ग्रामों के लिए एक-एक डिप्टी कलेक्टर को दल प्रभारी बनाया गया है। इन दलों में क्षेत्र के तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं राजस्व निरीक्षक रहेंगे। यह सभी अधिकारी एवं कर्मचारी अपने निर्धारित कार्यों के साथ-साथ गुलाना तहसील के लिए सौंपे गए राजस्व संबंधी कार्यों को पूरा कराएंगे। कलेक्टर ने बताया कि 31 दिसंबर तक गुलाना तहसील के सभी ग्रामों में सभी खातेदारों के राजस्व रिकार्ड का अद्यतिकरण किया जाएगा, जिसमें खातेदारों के रिकार्ड का मिलान कर नाम एवं रकबे की त्रुटि, खाते पर नाम न होना, बंधक करना, नाबालिग हटाना, ग्राम में बी.1 का वाचन कर रिकार्ड की अद्यतन पुष्टि करना तथा बी-1 के वाचन के बाद फौती नामांतरण की कार्रवाई करना शामिल है। इसी तरह प्रत्येक खातेदार को अद्यतन खसरा बी-1 एवं ऋण पुस्तिका प्रदान की जाएगी। शासन के समस्त भवनों, परिसरों को राजस्व रिकार्ड में दर्ज किया जाएगा। ग्राम के सार्वजनिक श्मशान भूमि और वहां जाने का रास्ता, चरनौई भूमि, अन्य महत्वपूर्ण भूमि, खाद के गड्डे एवं परंपरागत खेत में जाने के रास्ते का सीमांकन कर अतिक्रमण हटाया जाएगा। अविवादित एवं फौती नामांतरण व बटवारे का निराकरण कर राजस्व रिकार्ड में दर्ज करेंगे। साथ ही पूर्व के आदेशों का अमल कर प्रमाणीकरण करने, नक्शे में बटांकन अंकित करने और संशोधित नक्शे की प्रति प्रदान करने की कार्रवाई की जाएगी। समस्त सेवा भूमि से अतिक्रमण हटाकर प्रत्येक कोटवार से प्रमाण पत्र लिया जाएगा कि उसकी भूमि पर कोई अतिक्रमण नहीं है। मंदिरों की भूमियों का सीमांकन कर अतिक्रमण हटाकर किसी अन्य के कब्जे में तो नहीं है इस आशय का पुजारियों से प्रमाणीकरण लिया जाएगा। किसी चेरिटेबल संस्था या विभाग को यदि कोई भूमि किसी उद्देश्य के लिए दी गई हो तथा वह वर्तमान में उपयोग नहीं हो रही हो तो उसका प्रतिवेदन देने के लिए कहा गया है। ग्राम में स्थित अपूर्ण या जीर्णशीर्ण भवन मय साईज, रकबा, फोटो उपयोगी या अनुपयोगी, संभावित मूल्य की जानकारी संकलित करने के लिए कहा गया है। शासकीय पट्टेधारों का कब्जा भूमि पर है या नहीं, यदि नहीं तो वर्तमान में किसका कब्जा है और किस हैसियत से है कि जांच की जाएगी। शासकीय भूमियों के कब्जेदारों का प्रतिवेदन तैयार कर तहसीलदार या नायब तहसीलदारों को प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, सीएम किसान कल्याण योजना, प्राकृतिक प्रकोप संबंधी प्रकरण एवं भू अर्जन आदि का मुआवजा के शतप्रतिशत निराकरण करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।
जैविक खेती का अवलोकन
कलेक्टर दिनेश जैन ने ग्राम कुड़ाना में स्थानीय कृषक संजय शर्मा पिता कांताप्रसाद शर्मा के जैविक कृषि फार्म पर जाकर जैविक खेती एवं खाद बनाने के तरीकों को देखा। कलेक्टर ने किसान द्वारा बनाए जा रहे जैविक खाद एवं फसलों को देखकर अन्य लोगों को भी प्रेरित करने के लिए कहा। वहीं ग्राम कुड़ाना में निर्मित हो रही गौ शाला का निरीक्षण करते हुए कलेक्टर ने गौशाला के पास खाली पड़ी भूमि पर समर्थन मूल्य पर खरीदी करने के लिए चबूतरा बनाने के निर्देश दिए।
विद्यालय के लिए भूमि का निरीक्षण
ग्राम गुलाना में प्रस्तावित सर्वसुविधायुक्त कलस्टर विद्यालय के लिए आवश्यक भूमि का निरीक्षण कलेक्टर ने किया। इस दौरान उन्होने शासकीय भूमि से अतिक्रमण हटाकर शिक्षा विभाग को भूमि सौंपने के लिए निर्देश प्रभारी तहसीलदार हेमंत अग्रवाल को दिए। उल्लेखनीय है कि गुलाना में कक्षा 1 से कक्षा 12 तक के लगभग 15000 बच्चों के लिए सर्वसुविधायुक्त विद्यालय निर्माण का प्रस्ताव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*