Tue 30 11 2021
Home / Breaking News / जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव और ऑपरेशन के नाम पर अवैध वसूली, जांच के लिए टीम का गठन
जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव और ऑपरेशन के नाम पर अवैध वसूली, जांच के लिए टीम का गठन

जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव और ऑपरेशन के नाम पर अवैध वसूली, जांच के लिए टीम का गठन

शाजापुर। गर्भवती महिला का ऑपरेशन करने के नाम पर जिला अस्पताल की महिला चिकित्सक द्वारा रुपया मांगे जाने के मामले में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जांच टीम का गठन किया है। साथ ही संबंधित स्टॉफ को स्पष्टीकरण के लिए तलब भी किया गया है। उल्लेखनीय है कि जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव के साथ ही ऑपरेशन करने के नाम पर गरीब परिवारों को स्टॉफ नर्सों और महिला चिकित्सकों द्वारा लूटा जा रहा है। अस्पताल में चल रहे इस भ्रष्टाचार के खिलाफ ग्राम लाहोरी निवासी राजेश भिलाला ने आवाज उठाते हुए कलेक्टर दिनेश जैन के नाम देकर कार्रवाई किए जाने की मांग की। अस्पताल में चल रही इस मनमानी की खबर समाचार पत्रों में प्रकाशित होने के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ राजू निदारिया ने जांच के लिए टीम का गठन किया है।
यह है पूरा मामला
ग्राम लाहोरी निवासी राजेश भिलाला का आरोप है कि उसकी पत्नी शकुंतलाबाई का इलाज सरकारी अस्पताल में गर्भवती होने के बाद से चल रहा था, प्रसव का समय आने पर उसे 3 दिन पहले अस्पताल लाए थे किंतु यहां कि महिला चिकित्सक डॉ स्मितासिंह ने उनके सेंटर बिजासन माता मंदिर नई सडक़ पर भेज दिया और इसके बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया और अस्पताल में ऑपरेशन के नाम पर निजी क्लीनिक पर 12 हजार रुपए की राशि जमा करने की बात कही। फरियादी राजेश ने बताया कि उसकी आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर है, ऐसे में 12 हजार रुपए की राशि नही दे सकता। इस पूरी घटना के उजागर होने के बाद स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों ने अस्पताल प्रबंधन की क्लास लेने की तैयारी करली है। साथ ही मामल की जांच को लेकर दल का गठन भी किया गया है।
रैफर केंद्र बना जिला अस्पताल
करीब 200 बेड वाले जिला अस्पताल में 105 चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मचारियों का स्टॉफ है जिनमें से दो एनेस्थीसिया के विशेषज्ञ हैं, लेकिन इसके बाद भी जिला अस्पताल से गर्भवती महिलाओं को जटिलता का हवाला देकर इंदौर रैफर किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार जो परिवार महिला चिकित्सक और नर्सों को लक्ष्मी का चढ़ावा चढ़ाता है उसका जिला अस्पताल में ही ऑपेरशन किया जाता है, जबकि रुपया नही देने वाले गरीब परिवार की गर्भवती महिलाओं को जटिलता का हवाला देकर इंदौर रैफर किया जा रहा है। गतदिनों भी कई गर्भवतियों को अनावश्यक रूप से इंदौर रैफर किया गया है जिसकी जांच भी सीएमएचओ द्वारा कराए जाने की बात कही जा रही है।
इनका कहना है
अस्पताल में ऑपरेशन के नाम पर अवैध वसूली के मामले संज्ञान में आए हैं, जिसकी जांच को लेकर टीम का गठन किया गया है। साथ ही अनावश्यक रूप से गर्भवतियों को रैफर किए जाने की शिकायत भी मिली है। मामले को  लेकर जांच कराई जा रही है। दोषियों को बिल्कुल भी बख्शा नही जाएगा।
-डॉ राजू निदारिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी शाजापुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*