नीले आसमान पर बिखरेगा रंगों का जादू

sjptimesadmin

शाजापुर। लाल, हरी, नीली, पीली आदि रगं-बिरंगी पतंगें आज आसमान में लहराती हुई एकता का जादू बिखेरेंगी। मंगलवार को मकर सक्रांति पर पतंबाजी के शौकिन आसमान पर अपने सपनों को पतंग के माध्यम से ऊंचाई देंगे। सक्रांत को लेकर जहां बाजारों में कुछ दिनों पूर्व से ही रौनक दिखाई दे रही थी वह सोमवार से अधिक हो गई और शौकिनों ने सोमवार को भी जमकर पतंग और मांझे की खरीदी की। गौरतलब है कि इस बार भी मकर सक्रांति 14 और 15 जनवरी को मनाई जाएगी, जिसके चलते पंतबाजी के शौकिन आसमान पर पतंगें लहराएंगे। वहीं मुहूर्त में तिल्ली-गुड़ के व्यंजन का आनंद लिया जाएगा। मकर सक्रांति को लेकर पतंग बेचने वालों ने भी अपनी दुकानों को आकर्षक ढंग से सजाकर ग्राहकों को अपनी और रिझाने का काम शुरू कर दिया है। इसीके साथ मकर सक्रांति पर मान्यताओं के चलते गुड़ और तिल्ली के व्यंजनों की महक नगर में फैली रहेगी।
पतंगें करेंगी अटखेलियां
उल्लेखनीय है कि पूर्व में मकर सक्रांति पर गिल्ली डंडा के खेल को ही प्रमुखता से खेलने की प्रथा रही है, परन्तु वक्त के साथ इस परम्परा का स्थान अब पतंबाजी ने ले लिया है। यही कारण है कि मालवांचल में सक्रांत के दिन घरों की छतों पर युवाओं की टोली पतंबाजी में मशगुल रहेगी। पतंग के शौकिनों ने एक दिन पूर्व ही सारी तैयारी कर ली हैं और पतंग से लेकर मांझे की भी खरीदी हो चुकी है। याने मंगलवार को आसमानों पर दिनभर पतंों की अटखेलियां देखने को मिलेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अंधेरा होते ही स्टेडियम मैदान पर छलकते हैं शराब के प्याले, फूटी बोतलों से खिलाडिय़ों को होती है परेशानी

शाजापुर। स्थानीय स्टेडियम ग्राउंड शाम होते ही शराबियों की गिरफ्त में आकर मयखाना के रूप में तब्दील हो जाता है और यहां नशेड़ी शराब पीने के बाद खाली बोतलों को यहीं फेंकने के साथ फोडक़र चले जाते हैं जिसके कांच मैदान में चारों तरफ बिखरे होने से खेलने और अभ्यास […]

Subscribe US Now