Wed 27 05 2020
Home / Breaking News / शिकायतों के निराकरण के लिए ऑनलाइन विभागीय पोर्टल स्थापित
शिकायतों के निराकरण के लिए ऑनलाइन विभागीय पोर्टल स्थापित

शिकायतों के निराकरण के लिए ऑनलाइन विभागीय पोर्टल स्थापित

     शाजापुर,  राज्य शासन द्वारा चलाये जा रहे माफिया विरोधी अभियान के तहत म.प्र. शासन सहकारिता विभाग द्वारा गृह निर्माण सहकारी संस्थाओं के सदस्यों की शिकायतों के निराकरण के लिए आॅनलाईन विभागीय पोर्टल स्थापित किया गया है, जिसके माध्यम से शिकायतें राज्य स्तर, संभागीय एवं जिला स्तर स्तर पर दर्ज हो सकेगी।
अपर कलेक्टर श्रीमती मंजूषा विक्रांत राय ने बताया कि जिला शाजापुर में माफियाओं के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के दौरान राजस्व विभाग एवं सहकारिता विभाग के अधिकारियो एवं कर्मचारियों द्वारा संयुक्त रूप से जिले के गृह निर्माण सहकारी संस्थाओं की जांच की गई। जिनमें सरदार पटेल गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, नवीन शिक्षक गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, विद्युत कर्मचारी गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, शासकीय कर्मचारी गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, शिवशक्ति गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, गंगा गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, आदित्य नगर गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शाजापुर, कर्मचारी गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित मो. बड़ोदिया, कर्मचारी गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित बृजनगर शुजालपुर (परिसमापन), ब्रम्हपुरी गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्यादित शुजालपुर (परिसमापन) शामिल है।
जांच पूर्ण होने के उपरांत रिपोर्ट में पाया गया कि संस्थाओं द्वारा डायवर्सन, टी.एन.सी द्ववारा नक्शा अनुमोदन, काॅलोनी का रजिस्ट्रेशन, काॅलोनी विकास अनुमति एवं नवीनीकरण संबंधी विभिन्न मापदंडों की पूर्ति नहीं की गई है। इन संस्थाओं को सूचित किया गया है कि सभी गृह निर्माण सहकारी संस्थाओं से संबंधित केटेगरी एवं सब केटेगरी के अंतर्गत आने वाले विषयों से संबंधित शिकायतें कलेक्टर कार्यालय शाजापुर दूरभाष क्रमांक 226500, 226727 में कार्यालयीन समय में उपस्थित होकर मय प्रमाण अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं, शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर नियमानुसार निराकरण किया जायेगा।
शिकायत और जानकारी के लिए श्रेणी एवं उपश्रेणी का निर्धारण
गृह निर्माण सहकारी संस्थाओं से सम्बन्धित शिकायतों के लिए श्रेणी एवं उपश्रेणी बनाई गई हैं। इसके अंतर्गत सदस्यों से जानकारी देने को कहा गया है। सदस्यता की श्रेणी में सदस्य क्रमांक से छेड़छाड करना, सदस्यता प्रदान नहीं करना, सदस्यता समाप्त एवं निर्धारित सदस्यता से अधिक सदस्य बनाना शामिल है। इसी तरह भूखंड आवंटन की श्रेणी में भूखंड का आवंटन नहीं करना, कनिष्ठ सदस्यों को भूखंड का आवंटन करना, भूखंड आवंटन निरस्त करना, आवंटित भूखंड का क्रमांक बदलना एवं समस्त राशि जमा करने के उपरांत भी भूखंड आवंटन हेतु राशि की अतिरिक्त मांग करना। भूखंड रजिस्ट्री की श्रेणी में आवंटित भूखंड का पंजीयन नहीं करना, भूखंड का एक से अधिक बार पंजीयन करना, असदस्य को भूखंड पंजीयन करना, अविकसित भूखंड की रजिस्ट्री करना, भूखंड का कब्जा की श्रेणी में संस्था द्वारा पंजीकृत भूखंड का कब्जा नहीं दिया जाना, भूखंड पर अवैधानिक कब्जा करना, भूखंड पर अतिक्रमण किया जाना, वरीयता की श्रेणी में वरीयता/प्राथमिकता सूची से छेड़छाड़ करना, वरीयता/प्राथमिकता सूची तैयार किए बिना भूखंड का आवंटन करना, संस्था के अनुमोदित अभिन्यास से छेड़छाड़ की श्रेणी में भूखंड क्षेत्रफल में फेरबदल करना, अभिन्यास से हटकर अन्य भूखंड/भू-भाग की रजिस्ट्री करना, संस्था की सार्वजनिक भूमि पर भूखंड काटकर बेचना, आवंटित भूखंड अन्य को पंजीकृत करने की श्रेणी में आवंटित भूखंड अन्य को पंजीकृत करना, विकासकार्य की श्रेणी में संस्था की भूमि का विकास कार्य नहीं करना, अनियमितता श्री श्रेणी में पदाधिकारियों द्वारा अनियमितता करना एवं भूमि विक्रय/लीज/किराये पर देने की श्रेणी में संस्था की भूमि/भूभाग बिना अनुमति के विक्रय करना, संस्था की भूमि/भूभाग बिना अनुमति के लीज/किराये पर देना शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*