Tue 04 08 2020
Home / Breaking News /  ग्राम सिरोलिया मे उप स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टर की नियुक्ति नहीं होने से 15 हजार ग्रामीण परेशान
 ग्राम सिरोलिया मे उप स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टर की नियुक्ति नहीं होने से 15 हजार ग्रामीण परेशान

 ग्राम सिरोलिया मे उप स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टर की नियुक्ति नहीं होने से 15 हजार ग्रामीण परेशान

शाकीर खान-मक्सी. ग्राम सिरोलिया मे ग्रामीणों के इलाज के लिए शासन द्वारा सन 1992 मे उप स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण किया गया था। उप स्वास्थ्य केंद्र के लोकार्पण के समय जनप्रतिनिधियों द्वारा घोषणा की गई थी कि अति शीघ्र डॉक्टर की नियुक्ति भी करा दी जाएगी परंतु उप स्वास्थ्य केंद्र पर आज तक किसी भी डॉक्टर नियुक्ति नहीं की गई उप स्वास्थ्य केंद्र सिरोलिया 5 गांव शामिल है। इसमे कपालिया, सामगी बोडी, बड़नपुर, खोकरिया एव पीर उमरोद सभी गांव वालों की जनसंख्य लगभग 15 हजार है। सभी गांव वाले को इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मक्सी जाना पड़ता है सभी गावो से मक्सी की दूरी 15 से 20 किलोमीटर है वही ग्राम सिरोलिया सभी गांव के बीच में होने से 2 से 3 किलोमीटर के दायरे में ही पड़ता है। मक्सी की दूरी 15 से 20 किलोमीटर होने से समय भी अधिक लगता है और पैसे की फिजूलखर्ची होती है इमरजेंसी में मरीजों को तत्काल इलाज मिले इसके लिए 5 गांव के ग्रामीणों ने मांग की है की सिरोलिया मे उप स्वास्थ्य केंद्र पर शीघ्र ही डॉक्टर की नियुक्ति की जाए।

 

उप स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण सन 1992 मैं हुआ था अभी तक सिरोलिया में डॉक्टर की नियुक्ति नहीं हुई व्यवस्था भंग है उप स्वास्थ्य केंद्र पर पहले मात्र महिलाओं की डिलीवरी होती थी उसके बाद ताला लगा रहता था।

दिलीप जागीरदार अध्यक्ष किसान कांग्रेस सिरोलिया

डॉक्टर की नियुक्ति नही होने से उप स्वास्थ्य केंद्र मे आस-पास के 5 गांव जुड़े हैं उन सभी गांव की जनता को इलाज के लिए मक्सी 15 से 20 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है। स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज नाम की किसी प्रकार

की सुविधा नहीं है बीमार मरीज को बहुत ही मुसीबत का सामना करना पड़ता है इलाज के नाम पर बहुत परेशानी आती है।

उप सरपंच राजेश पाटीदार सिरोलिया

ग्राम सिरोलिया के उप स्वास्थ्य केंद्र पर दो या तीन बार शासन की योजना अनुसार मात्र पोलियो की दवाई पिलाने का कार्य किया जाता है अथवा बच्चों को टीकाकरण के लिए शिविर का कैंप लगाया जाता है उसके बाद स्वास्थ्य केंद्र पर ताला लगा दिया जाता है महीनों तक नहीं खुलता है। शासन प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

प्रमोद परिहार सिरोलिया