Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / भारतीय जीवन बीमा निगम में निजी कंपनियों के निवेश को बढ़ावा देने के विरोध में कर्मचारियों ने की हड़ताल
भारतीय जीवन बीमा निगम में निजी कंपनियों के निवेश को बढ़ावा देने के विरोध में कर्मचारियों ने की हड़ताल

भारतीय जीवन बीमा निगम में निजी कंपनियों के निवेश को बढ़ावा देने के विरोध में कर्मचारियों ने की हड़ताल

शाजापुर। मोदी सरकार द्वारा भारतीय जीवन बीमा निगम में निजी कंपनियों का दखल किए जाने के विरोध में बीमा कर्मचारियों ने हड़ताल कर नारेबाजी की। इस मौके पर हड़ताली कर्मचारियों ने कहा कि देशव्यापी विरोध के बाद भी केंद्र की मोदी सरकार भारतीय जीवन बीमा निगम को शेयर बाजार में सूचीबद्ध करने के लिए आईपीओ लाने पर आमादा है। केंद्र सरकार चंद पूंजीपतियों और विदेशी निवेशकों के हित में यह कार्य कर रही है। साथ ही सरकार ने बीमा क्षेत्र में विदेशी पूंजी को बढ़ाकर 49 प्रतिशत से 74 प्रतिशत कर दिया है। सरकार की इन नीतियों का कर्मचारी संगठन द्वारा पूर विरोध किया जा रहा है, लेकिन सरकार अपनी मनमानी पर अडिंग है जिसकी वजह से कर्मचारियों में रोष व्याप्त है। हड़ताली कर्मचारियों ने बताया कि बीमा निगम के कर्मचारियों का वेतन निर्र्धारण लगभग 4 सालों से लंबित है, जबकि नियमानुसार प्रत्येक 5 सालों में कर्मचारियों का वेतन निर्धारण किया जाना चाहिए, परंतु वर्तमान मोदी सरकार के कार्यकाल में वेतन निर्र्धारण में सबसे अधिक विलंब हुआ है। एलआईसी में निजी निवेश को बढ़ावा देने और कर्मचारियों का वेतन निर्धारण समय पर नही किए जाने के विरोध में गुरुवार को धोबी चौराहा स्थित बीमा कार्यालय के बाहर हड़ताल करते हुए नारेबाजी की गई। इस अवसर पर अमरचंद पटेल, धर्मराज यादव, मनीष सिंघवी, इसरार खान, रामसिंह कुशवाह, सीमा गर्ग, सुरेश गोस्वामी, रघुनंदन खींची, रामदयाल बड़ाल, मयंक गुर्जर आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*