Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / विधानसभा के 10 और ग्रामों में सिंचाई के लिए मिलेगा नर्मदा का पानी
विधानसभा के 10 और ग्रामों में सिंचाई के लिए मिलेगा नर्मदा का पानी

विधानसभा के 10 और ग्रामों में सिंचाई के लिए मिलेगा नर्मदा का पानी

– नर्मदा उद्वहन परियोजना से जोड़ा गया ग्रामों को
– शासन-प्रशासन और पूर्व मंत्री के प्रयास से मिले सकारात्मक परिणाम
शाजापुर.
शाजापुर विधानसभा क्षेत्र में जीवन रेखा के रूप में नर्मदा नदी के पानी की पेयजल एवं सिंचाई के लिए लाने की योजना का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। इस नर्मदा उद्वहन परियोजना में एक और सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं जबकि विधानसभा के 10 और ग्रामों में सिंचाई के लिए नर्मदा नदी का पानी पहुंचाया जाएगा। इसके लिए शासन-प्रशासन और पूर्व मंत्री एवं शाजापुर विधायक हुकुमसिंह कराड़ा द्वारा किए गए प्रयास अब मूर्त रूप ले रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि शाजापुर शहरवासियों को एक मात्र जलस्रोत चीलर डैम पर ही निर्भर रहना पड़ता है। ऐसे मेंं शहर में ही एक दिन छोडक़र जल प्रदाय होता है। इसी परेशानी को दूर करने के उद्देश्य से प्रदेश की कमलनाथ सरकार में जलसंसाधन मंत्री रहे शाजापुर विधायक हुकुमसिंह कराड़ा ने शहर सहित संपूर्ण विधानसभा क्षेत्र में नर्मदा नदी का पानी उपलब्ध कराने के लिए नर्मदा नदी का पानी लाने के लिए कार्ययोजना तैयार कराई। 2215.64 करोड़ रुपए की नर्मदा-शिप्रा लिंक बहुउद्देशीय परियोजना जिसमें ओंकारेश्वर बांध से पाइप लाइन के माध्यम से पानी को उज्जैन जिले में पहुंचाया जाना था उसके प्रथम चरण में शाजापुर विधानसभा को शामिल किया गया। प्रथम चरण में उक्त परियोजना के अंतर्गत जिले के शाजापुर और मक्सी के बीच 17 गांव में सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी की व्यवस्था एवं शाजापुर शहरवासियों के लिए पेयजल की व्यवस्था करने का कार्य शुरू कराया। दिसंबर 2019 में प्रथम चरण के कार्य का भूमिपूजन करवाकर काम भी शुरू कर दिया गया। इसके बाद दूसरे चरण की प्रक्रिया में शाजापुर विधानसभा के 18 और ग्रामों में उक्त परियोजना का लाभ दिया जाने के लिए योजना ने मूर्त रूप लिया। इसी परियोजना में लगातार शाजापुर विधानसभा के ग्रामों को जोड़ते हुए अब 10 और ग्रामों को इस परियोजना से जोड़ा गया है। इन्हें मिलाकर विधानसभा के करीब 250 ग्रामों में से अधिकांश में नर्मदा नदी का पानी उक्त परियोजना के माध्यम से सिंचाई के लिए उपलब्ध होगा।
इन ग्रामों को और जोड़ा गया परियोजना से
पूर्व मंत्री और शाजापुर विधायक हुकुमसिंह कराड़ा ने बताया कि विधानसभा के ग्राम खोरियाएमा, बड़ोनी, चंदोनी, कुम्हारियाखास, खररखेड़ी, मंजूरखेड़ी, मताना, सारसी, ढांकनी और देवरीमुल्ला में भी नर्मदा उद्वहन परियोजना के तहत पानी पहुंचाने के लिए शासन, प्रशासन के अधिकारियों के साथ मिलकर प्रोविजन तैयार कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि अब विधानसभा के अधिकांश गांव में नर्मदा नदी का पानी पहुंचेगा। वहीं शेष रह गए ग्रामों में भी सिंचाई परियोजना को तैयार कराए जाने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किए जा रहे है। जल्द ही विधानसभा के शेष रहे ग्रामों में भी सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था होगी।
जहां डैम बनाना संभव नहीं था वहां पाइप लाइन से पहुंचाया जाएगा पानी
जानकारी के अनुसार वर्तमान में शाजापुर विधानसभा के जिन 10 ग्रामों को परियोजना से जोड़ा गया है उसमें से कुछ ग्रामों में स्टॉप डैम/डैम बनाने का विरोध हो रहा था। क्योंकि डैम बनने से लोगों को नुकसान होता, ऐसे में इन ग्रामों में डैम बनाकर सिंचाई के लिए पानी पहुंचाने की बजाय सिंचाई के लिए पाइप लाइन के माध्यम से पानी पहुंचाने की योजना को लागू कराया जा रहा है। जिससे सभी को पर्याप्त पानी उपलब्ध हो सकेगा।
हर गांव तक पानी पहुंचाने का लक्ष्य
विधानसभा के प्रत्येक गांव में सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिल सके इसके लिए नर्मदा उद्वहन परियोजना को लाया गया है। धीरे-धीरे करके इसमें विधानसभा के अन्य ग्रामों को भी जोड़ा जा रहा है। वर्तमान में शासन, प्रशासन के अधिकारियों के साथ चर्चा करके 10 और ग्रामों को इस परियोजना से जोड़ा गया है। जो गांव शेष रह गए है उनमें भी सिंचाई परियोजना लागू करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे है।
– हुकुमसिंह कराड़ा, पूर्व मंत्री एवं विधायक-शाजापुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*