Tue 24 05 2022
Home / Breaking News / आंखों में जलन कर मुसीबत बन रहे मोयला मच्छर, सरसों के खेत से निकल कर शहर में मचा रहे आतंक
आंखों में जलन कर मुसीबत बन रहे मोयला मच्छर, सरसों के खेत से निकल कर शहर में मचा रहे आतंक

आंखों में जलन कर मुसीबत बन रहे मोयला मच्छर, सरसों के खेत से निकल कर शहर में मचा रहे आतंक

शाजापुर। खेतों में सरसों की फसल लहलहाने के बाद से ही मोयला मच्छरों ने शहर में धावा बोल दिया है और ये मच्छर सडक़ों पर आने-जाने वाले हर राहगीरों के लिए परेशानी खड़ी कर रहे हैं लेकिन इसके बाद भी जिम्मेदार हैं कि इन मच्छरों के आतंक से लोगों को बचाने के लिए कोई ठोंस कदम नही उठा रहे हैं। सुबह से लेकर दोपहर तक लोगों के लिए सिरदर्द बने ये मच्छर खुद की जान देकर लोगों को तकलीफ पहुंचाने का काम कर रहे हैं। खासकर बाइक सवारों को इन मच्छरों की वजह से अधिक परेशानी उठानी पड़ रही है। उल्लेखनीय है कि पीली सरसों के बगीचे में पैदा होने वाले मच्छरों ने मौसम के मिजाज से ठंडक कम होते ही शहर की ओर अपना रूख कर लिया है और खेतों से सफर कर बस्तियों और चौराहों तक पहुंचे इन मच्छरों ने लोगों के लिए भारी परेशानी खड़ी कर दी है, क्योंकि घर से बाजार की ओर निकले वाहन चालकों की आंखों में घुस कर ये मच्छर उन्हे बदहवास करने का काम कर रहे हैं। अचानक से आंखों में घुस रहे इन मच्छरों की वजह से आंखों में तेज जलन होती है, जिससे वाहन चालकों का संतुलन बिगडऩे के साथ ही दुर्घटना का अंदेशा भी बन रहा है। शहर की गलियों और सडक़ों पर सैकड़ों की तादाद में मंडरा रहे ये मोयला प्रजाति के मच्छर लोगों के लिए खासे परेशानी भरे साबित हो रहे हैं। मच्छरों के इस आतंक से जिम्मेदार भी बखूबी वाकिफ  हैं, लेकिन वे इन मच्छरों से निजात दिलाने के लिए शहर में लोगों को सुकून पहुंचाने के लिए काम नही कर रहे हैं।
दुर्घटना का बन रहे सबब
उल्लेखनीय है कि मौसम में गर्माहट दोबारा से शुरू हो गई है और लोगों को दिन के समय गर्मी का ऐहसास हो रहा है, परंतु सर्दी कम होने के बाद भी लोगों की बेचैनी दूर नही हो सकी है क्योंकि इन दिनों सडक़ों पर झूंड बनाकर उड़ान भर रहे मोयला मच्छर वाहन चालकों के लिए दुर्घटना का सबब बन रहे हैं। फिलहाल इन मच्छरों को भगाने के लिए जिम्मेदारों ने कोई कदम नही उठाए हैं जो लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*