Sun 29 11 2020
Home / Breaking News / मनरेगा कार्य मशीनों से-मज़दूरो की मज़दूरी पर डाका
मनरेगा कार्य मशीनों से-मज़दूरो की मज़दूरी पर डाका

मनरेगा कार्य मशीनों से-मज़दूरो की मज़दूरी पर डाका

जनपद पंचायत सुजालपुर की ग्राम पंचायतों में मनरेगा का कार्य किया जाता है मशीनों से
जिम्मेदार अधिकारी आंखें बंद करके देख रहे हैं तमाशा
इंजीनियर भी आंखें बंद करके करते हैं निरीक्षण

जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण गरीब बेसहारा मजदूर हो रहे हैं बेरोजगार
जी हां हम आपको बताना चाहेंगे कि मनरेगा “मनरेगा” एक ऐसा शब्द है जो गरीबों को रोजगार देता है मजदूरी देता है और केंद्र सरकार ने इस योजना को इसीलिए मूर्त रूप दिया है
 कि गांव में पंचायतों के माध्यम से जो विकास कार्य होता है  उसमें गरीब मजदूरों को मजदूरी मिले ताकि इनका परिवार का अच्छे से पालन पोषण हो सके लेकिन ऐसा नहीं है
जो कार्य मनरेगा के तहत आते हैं उसमें मशीनों से निर्माण किया जाता है
हम बात कर रहे हैं ग्राम पंचायत दंहडी की जहां पर मुक्तिधाम से गांव तक ग्रेवल रोड बनाया जा रहा है  जिसमें मजदूरों का कहीं पर भी उपयोग नहीं हुआ है ना ही किसी को मजदूरी मिली है
पूरा रोड मशीनों से ट्रैक्टर ट्राली ओं से जेसीबी मशीन से बनाया गया और जब इस बात की जानकारी गांव वालों के द्वारा हमें दी गई तब हम जिम्मेदार अधिकारी के पास पहुंचे तो साहब का कहना था कि रोड तो बना है लेकिन मैं इसकी जांच करवा लेता हूं और बयान देने से बचते नजर आए
   वही जब इस रोड की शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर की गई तो खुद जिम्मेदार अधिकारी ने प्रतिवेदन में लिखा कि रोड में किसी भी प्रकार का मशीनों का उपयोग नहीं किया गया मतलब क्या इसे भष्टाचारी का एक नमूना माना जाए ?
    क्योंकि साहब से ज्यादा गांव वाले जानते हैं जिनके सामने मशीनों से कार्य हुआ है उन ग्रामीणों ने मीडिया के सामने आकर खुलकर बोला कि इस रोड में कहीं पर भी मजदूर का उपयोग नहीं हुआ है
     अब देखना यह होगा कि क्या शाजापुर जिले में इस तरह के कार्यों पर लगाम लगेगी
फिलहाल मामला जिम्मेदार अधिकारियों के सामने आ चुका है लेकिन इस पर क्या कार्यवाही होती है इसके लिए अगली खबर का इंतजार कीजिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*