Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / लॉक डाउन के दंश के बाद अब राशन नही मिलने से परेशान हितग्राही
लॉक डाउन के दंश के बाद अब राशन नही मिलने से परेशान हितग्राही

लॉक डाउन के दंश के बाद अब राशन नही मिलने से परेशान हितग्राही

खाद्य आपूर्ति विभाग की सुस्त कार्यशैली से नही हो रहा उचित मूल्य दुकानों से राशन का वितरण

शाजापुर। कोरोना महामारी की रोकथाम को लेकर लॉक डाउन जारी है, ऐसे में शहरी क्षेत्रों में कारोबार पूरी तरह से ठप पड़ा हुआ है। विपदा की इस घड़ी में मजदूर वर्ग के लोगों को दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष न करना पड़े इसको लेकर प्रशासन द्वारा उचित मूल्य की दुकानों को प्रतिबंध से मुक्त रखा गया है, लेकिन संचालक अपनी मनमानी के चलते दुकानों पर तालाबंदी कर घर पर बैठे हुए हैं जिसकी वजह से हितग्राहियों को उनके हक का राशन अब तक नही मिल सका है। वहीं जिम्मेदार विभाग के अधिकारी भी दुकान संचालकों पर दबाव बनाने में असमर्थता जाहिर करते हुए हाथ पीछे खींचते नजर आ रहे हैं, ऐसे में लोगों के लिए परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल भरा साबित होने लगा है।
उल्लेखनीय है कि लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा शहरी क्षेत्र में लॉक डाउन किया गया है, जिसके कारण अधिकांश लोगों के कारोबार बंद हो गए हैं। वहीं प्रशासन ने शासकीय उचित मूल्य की दुकानों को प्रतिबंध से मुक्त रखा है ताकि हितग्राहियों को सरकार की ओर से सस्ता राशन आसानी से मिल सके, परंतु खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारियों की निष्क्रिय और उदासीन कार्यशैली की वजह से 19 अप्रैल तक भी उचित मूल्य की दुकानों से राशन का वितरण नही हो सका है। शर्मनाक बात यह है कि जिम्मेदार अधिकारी मामले में गंभीरता दिखाने की बजाय कोरोना का हवाला देते हुए दुकान संचालकों पर दबाव बनाने को तैयार नही हैं और हितग्राहियों को ही अपने स्तर से दुकान पर जाने का कहा जा रहा है। शहरी क्षेत्र में करीब 18 उचित मूल्य की दुकानें हैं, जिनमें से अधिकतर दुकानों से अब तक राशन का वितरण नही किया गया है, जबकि प्रशासन ने उक्त दुकानों को हितग्राहियों के हिसाब से राशन आवंटित कर दिया है और दुकान खोलने के लिए लॉक डाउन के प्रतिबंध से भी मुक्त रखा है। बावजूद इसके न तो दुकानदार दुकान खोलकर राशन वितरित कर रहे हैं और न ही विभाग के अधिकारी उन्हे राशन वितरण को लेकर कुछ कहते नजर आ रहे हैं। नतीजतन हितग्राहियों को मुसीबत की घड़ी में दाने-दाने के लिए परेशान होना पड़ रहा है।
कहीं अनाज घोटाले की तैयारी तो नही?
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शहरी क्षेत्र की करीब 18 उचित मूल्य दुकानों पर अप्रैल माह के पहले सप्ताह में ही हितग्राहियों के हिसाब से राशन उपलब्ध करा दिया गया है। साथ ही लॉक डाउन के प्रतिबंध से दुकानों को मुक्त रखकर राशन बांटने के निर्देश भी जारी हो चुके हैं, लेकिन इसके बाद भी अप्रैल माह की 19 तारीख तक हितग्राहियों को राशन का वितरण नही किया जा सका है। ऐसे में हितग्राहियों का कहना है कि कहीं जिम्मेदार गरीबों के राशन का घोटाला करने की तैयारी में तो नही हैं। ग्राम मूलीखेड़ा में रहने वाले प्रभुलाल मंडोर ने बताया कि लॉक डाउन की वजह से काम धंधे बंद पड़े हैं और घर में राशन की जरूरत है, लेकिन अब तक उचित मूल्य की दुकान से राशन वितरित नही किया गया है। खाद्य आपूर्ति विभाग में फोन लगाकर शिकायत की तो वहां से भी संतोषजनक जवाब नही मिला।
वरिष्ठ अधिकारी से बात करो
उचित मूल्य दुकान संचालकों को राशन वितरित करने को कहा गया था, लेकिन उन्होने अब तक राशन वितरित नही किया है। इस मामले में आप मुझसे नही वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा करो।
-भारती, सहायक खाद्य आपूर्ति अधिकारी, शाजापुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*