Thu 19 05 2022
Home / Breaking News / कुपोषण के चक्र से मुक्त होकर स्वस्थ हुए 2 बच्चे
कुपोषण के चक्र से मुक्त होकर स्वस्थ हुए 2 बच्चे

कुपोषण के चक्र से मुक्त होकर स्वस्थ हुए 2 बच्चे

शाजापुर,  महिला एवं बाल विकास विभाग के सतत एवं लगातार प्रयासों से कुपोषण के चक्र से मुक्त होकर 2 बच्चे स्वस्थ हुए हैं। आंगनवाडी कार्यकर्ता श्रीमती संगीता परिहार ने बताया कि आंगनवाड़ी केन्द्र क्रमांक-6 झोंकर पर जनवरी 2020 मे 2 बच्चें जिनमें आयतनूर माता श्रीमती नसीम बी-पिता श्री रफीक खां एवं  मुस्कान माता श्रीमती शेहनाज बी-पिता श्री सलीम कुपोषित थे। बच्चों के कुपोषित होने की वजह से महिला बाल विकास विभाग की ओर से आंगनवाडी केन्द्र पर ही आंगनकेन्द्र का आयोजन किया गया तथा यहां पर कुपोषित बच्चों एवं उनकी माताओं को बुलवाया गया।  फिर उनकी माताओ को स्वच्छता की जानकारी दी, जिसमे बार-बार हाथ धोना बताया गया। इसके बाद बच्चों को सप्ताह में दो बार प्रातः 10 बजे नाश्ता दिया गया, नाश्ते मे दलिया या नमकीन खिचड़ी  खिलाई गई। दोपहर 12 बजे गरम पका हुआ भोजन दिया गया। भोजन में दाल-रोटी हरी सब्जी आदि खाने में दिये गये। 02 बजे थर्डमील दिया गया। थर्डमील मे टी.एच.आर से बने व्यंजन जैसे हलवा, लडडू आदि दिये गये। 04 बजे फोर्थमील दिया गया, जिसमें कभी पौष्टिक नमकीन खिचड़ी, पराठा या बेसन की रोटी और मूंगफली दाना, गुड पट्टी आदि दिये गये। साथ ही एन.एम द्वारा समय-समय पर बच्चों का स्वास्थ परीक्षण किया गया और आवश्यकता के अनुसार दवाईयां भी दी गई। परियोजना अधिकारी तथा पर्यवेक्षक द्वारा इन बच्चों का सतत निरीक्षण किया गया तथा उनकी माताओं से चर्चा (बातचीत) करके बच्चों को पोषण के बारे मे समझाईश दी गई।

आगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा गृहभेंट के दौरान (समय) बच्चों की पौषण निगरानी की गई एवं बच्चों के माता-पिता को पोष्टिक आहार जैसे हरे पत्तेदार सब्जियां खिलाने की सलाह दी गयी। साथ ही बच्चों को समय-समय पर वजन व लम्बाई कर बच्चों की ग्रोथ की निगरानी की गयी। इस प्रकार महिला एवं बाल विकास के लगातार एवं सतत प्रयासों से दो बच्चें कुपोषण से मुक्त हो गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*