Sat 27 11 2021
Home / Breaking News / गोशाला के बाद भी गांव में आवारा मवेशियों का आतंक, किसानों ने की कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर शिकायत
गोशाला के बाद भी गांव में आवारा मवेशियों का आतंक, किसानों ने की कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर शिकायत

गोशाला के बाद भी गांव में आवारा मवेशियों का आतंक, किसानों ने की कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर शिकायत

शाजापुर। गोशाला होने के बावजूद जिम्मेदारों द्वारा गांव में गायों को आवारा छोड़ देने से परेशान किसानों ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। शुक्रवार को ग्राम खोरियाएमा के दर्जनों किसान कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और ज्ञापन सौंपकर बताया कि उनके गांव में गोशाला है जिसमें 150 गोवंश हैं, लेकिन गोशाला से गायों को गांव में आवारा छोड़ दिया गया है और यह आवारा मवेशी फसलों को तबाह करने में जुट गए हैं। वहीं प्रशासन ने भी गांव की गोशाला के लिए 30 गोवंश और भेज दिए हैं जिन्हे भी गोशाला में रखने की बजाय किसानों की फसल चौपट करने के लिए खुला छोड़ दिया गया है। ज्ञापन में मांग की गई कि आवारा गायों को गोशाला में रखे जाने के लिए जिम्मेदारों को निर्देशित किया जाए, ताकि किसानों को नुकसान नही उठाना पड़े। उल्लेखनीय है कि गांव के हर गली-मोहल्लों में आवारा मवेशियों का जमावड़ा है। शहरी क्षेत्र में सडक़ों पर झूंड लगाकर बैठे यह मवेशी जहां राहगीरों के लिए सिरदर्द बने हुए हैं तो वहीं ग्रामीण अंचलों में घूम रहे आवारा मवेशी खेतों में घूसकर फसल को नष्ट कर रहे हैं। आवारा मवेशियों के बढ़ते आतंक के खिलाफ जिलेभर के किसानों ने अब आवाज उठानी शुरू कर दी है। यही कारण है कि भैरव डूंगरी के समीप के गांवों और बेरछा के किसानों के बाद अब मोमन बड़ोदिया क्षेत्र के ग्राम खोरियाएमा के किसानों ने आवारा मवेशियों के कहर से निजात दिलाने के लिए जिला प्रशासन का दरवाजा खटखटाया है।
गोशाला के बाद भी आवारा घूम रहे मवेशी
गौरतलब है कि जिले के विभिन्न गांवों में गोशालाएं संचालित की जा रही हैं, लेकिन गोशाला के जिम्मेदार मवेशियों की संख्या कागजों पर दर्शाकर महज अनुदान लेने तक ही सीमित नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि खोरियाएमा की गोशाला में दर्ज 150 गायों को गांव में आवारा छोड़ दिया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि गोशाला में रहने वाली गायों को पहले ही जिम्मेदार गांव में खुला छोड़ चुके हैं और प्रशासन ने 30 और नई गायों को गांव के किसानों के लिए मुसीबत बनाकर छोड़ दिया है। गांव की सभी आवारा गायों को गोशाला में रखे जाने की मांग की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*