Mon 29 11 2021
Home / Breaking News / फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बेशकीमती भूमि बेचने का आरोप, बुजुर्ग और खरीदवाल ने की शिकायत
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बेशकीमती भूमि बेचने का आरोप, बुजुर्ग और खरीदवाल ने की शिकायत

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बेशकीमती भूमि बेचने का आरोप, बुजुर्ग और खरीदवाल ने की शिकायत

शाजापुर। हाईवे किनारे सटी बेशकीमती भूमि को जालसाजी कर माफियाओं द्वारा कई लोगों को बेचे जाने का मामला सामने आया है। भूमि स्वामी और फर्जीवाड़े का शिकार हुए भूमि खरीददार ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर न्याय की गुहार  लगाई है। मंगलवार को कलेक्टर कार्यालय एवं पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे महूपुरा निवासी बद्रीलाल ने शिकायती आवेदन देकर बताया कि उसकी भूमि सर्वे क्रमांक 133 रकबा 0.41 हैक्टेयर ग्राम बरवाल में स्थित है, जिसका उसने किसी के साथ विक्रय नही किया है, लेकिन इसके बावजूद उक्त भूमि को किसी अन्य व्यक्ति द्वारा दो से तीन बार फर्जी पॉवर ऑफ अटर्नी बनाकर बेच दिया गया है। मामले में कोतवाली पुलिस से भी शिकायत की गई, परंतु कोई सुनवाई नही हुई। वहीं सोमवारिया बाजार निवासी अजय पिता कृष्णकांत उदासी तथा संदीप पिता सोभालसिंह निवासी ग्राम मुंडलादेव तहसील टोकखुर्द जिला देवास ने शिकायती आवेदन देकर बताया कि उन्हे उद्योग स्थापित करने के लिए हाईवे किनारे भूखंड की जरूरत थी, जिसके चलते उनसे शाजापुर नूरमंडी निवासी अकील दलाल से संपर्क किया। दलाल ने अकिल खां ने अपने परिचित हबीब से मिलवाया। इसके बाद हबीब द्वारा ग्राम बरवाल में जाकिर पिता चांद खा मंसूरी निवासी ग्राम हिरपुरटेका के नाम पर भूमि दर्ज होना बताया गया। इस दौरान उन्होने जाकिर मंसूरी के नाम की रजिस्ट्री भी दिखाई जिसके चलते उन्होने 36 लाख रुपए में भूमि खरीदने को लेकर अनुबंध किया। शिकायती आवेदन में बताया कि इसके बाद 30 जून 2020 को उपपंजीयक कार्यालय पर रजिस्ट्री संपादित की गई जिसके लिए विक्रेता जाकिर खां को एक-एक लाख रुपए के दो चेक अपने-अपने खाते के प्रदान कर शेष विक्रय मूल्य 20 जुलाई 2020 को प्रदान कर भूखण्ड का पंजीकृत विक्रय सम्पादित करवाया जाना निश्चित किया गया। इसके बाद तीनों आरोपियों ने असल दस्तावेज नही दिखाए और जालसाजी कर दो लाख रुपए हड़प कर लिए। आवेदन में कार्रवाई किए जाने की मांग की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*