Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / ओम प्रकाश पाटीदार बने माइक्रोसॉफ्ट  इन्नोवटिव एडुकेटर एक्सपर्ट
ओम प्रकाश पाटीदार बने माइक्रोसॉफ्ट  इन्नोवटिव एडुकेटर एक्सपर्ट

ओम प्रकाश पाटीदार बने माइक्रोसॉफ्ट  इन्नोवटिव एडुकेटर एक्सपर्ट

शाजापुर के नवाचारी शिक्षक ओम प्रकाश पाटीदार को इस वर्ष के लिए विश्व की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के माइक्रोसॉफ्ट एजुकेशन सेंटर द्वारा वर्ष 2021-22 के लिए माइक्रोसॉफ्ट  इन्नोवटिव एडुकेटर एक्सपर्ट (एम.आई.ई.ई.) चुना गया है।

माइक्रोसॉफ्ट  इन्नोवटिव एडुकेटर एक्सपर्ट क्या है?
माइक्रोसॉफ्ट इनोवेटिव एजुकेटर प्रोग्राम तहत दुनिया भर में शिक्षा क्षेत्र के ऐसे दूरदर्शी शिक्षकों को सम्मानित करता है, जो विषयवस्तु को बेहतर ढंग से समझाने लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं और अपने सहकर्मियों के लिए प्रेरणा बन रहे हैं। इस कार्यक्रम
कंप्यूटर शिक्षा के लिए कार्यरत माइक्रोसॉफ्ट की एमआईई प्रोग्राम में ऐसे शिक्षकों की उपलब्धियों और उनकी सफलताओं को सम्मानित करता है, जो विषयवस्तु, अध्यापन और टेक्नोलॉजी को साथ लाकर एडवांस लर्निग को प्रोत्साहित करते हैं, जिससे छात्रों को बेहतर ढंग से सीखने में मदद मिलती है और शिक्षण को भी नया रूप मिलता है।
 
नवाचार (इनोवेशन) को मिलेगा प्रोत्साहन
माइक्रोसॉफ्ट एजुकेशन इस साल 83 देशों से 240 मोस्ट इनोवेटिव एजुकेटर्स ने ई2 एजुकेशन एक्सचेंज के लिए साथ आकर नए विचारों और असाधारण टीचिंग प्रैक्टिस को साझा किया। प्रतिभागियों को माइक्रोसॉफ्ट की नवीनतम टेक्नोलॉजीज से भी रूबरू कराया गया और उन्हें सबसे बेहतरीन व्यवहार को एक-दूसरे के साथ साझा करने का मंच उपलब्ध कराया गया, जहां वे साथ मिलकर टीचिंग और लर्निग में इनोवेशन को प्रोत्साहन दे सकें। इस प्रोग्राम के लिए चुने गए शिक्षकों को माइक्रोसॉफ्ट की नवीनतम सॉफ्टवेयर और टेक्नोलॉजी संबंधी प्रशिक्षण दिया जाएगा और उनके संसाधनों व तकनीकी को विश्व के 120 देशों के 22000 शिक्षकों के साथ साझा करने के लिए वैश्विक मंच उपलब्ध कराया जावेगा, जहाँ वे विश्व के अन्य देशों के शिक्षकों के साथ मिलकर टीचिंग और लर्निग में इनोवेशन को प्रोत्साहन दे सकें।
शिक्षण माहौल बनाने में मददगार
शिक्षण में नवीन टेक्नोलॉजी का उपयोग करने के लिए चयनित शिक्षक पाटीदार ने अनूठे, प्रभावशाली प्रोजेक्ट्स तैयार किए, जिससे छात्रों के लिए इंटरेक्टिव, दिलचस्प और लाभकारी शिक्षण माहौल बनाने में मदद मिल रही है। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान विद्यार्थियों और नागरिकों में डिजिटल टेक्नोलॉजी के प्रयोग के द्वारा जैवविविधता संरक्षण सहित विज्ञान एवं स्वास्थ्य जागरूकता से सम्बंधित अनेक ऑनलाइन  प्रतियोगिताओं का आयोजन कर माइक्रोसॉफ्ट फॉर्म के माध्यम से बच्चो का मूल्यांकन किया तथा बच्चो में वैज्ञानिक दृष्टिकोण के विकास के उद्देश्य से वैज्ञानिक दृष्टिकोण नामक पुस्तक लेखन का कार्य  किया। शिक्षको के नवाचार को मंच देने के उद्देश्य से उनकी आगामी पुुुस्तक प्रयास एक पहल शीघ्र प्रकाशित होने वाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*