Wed 23 09 2020
Home / Shajapur News / जबरिया फीस वसूली के विरोध में इटर्नल स्कूल पहुंचकर अभिभावकों ने किया हंगामा
जबरिया फीस वसूली के विरोध में इटर्नल स्कूल पहुंचकर अभिभावकों ने किया हंगामा

जबरिया फीस वसूली के विरोध में इटर्नल स्कूल पहुंचकर अभिभावकों ने किया हंगामा

शाजापुर। ऑनलाइन शिक्षा के नाम पर अन्य गतिविधियों की स्कूल प्रबंधन द्वारा जबरिया फीस वसूली के लिए दबाव बनाए जाने के विरोध में अभिभावकों ने इटर्नल स्कूल कार्यालय पहुंचकर जमकर हंगामा कर दिया। परिजनों का आरोप था कि स्कूल प्रबंधन द्वारा ट्यूशन फीस के अलावा खेलकूद सहित अन्य गतिविधियों की फीस भी मांगी जा रही है और विरोध करने पर बदसलुकी की जा रही है। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के चलते स्कूलों में ताले डले हुए हैं, लेकिन शहर के इटर्नल स्कूल संचालक ऐसे में अभिभावकों से ऑनलाइन शिक्षा सहित अन्य गतिविधियों के नाम पर मासिक फीस मांग रहा है। स्कूल प्रबंधन की इसी मनमानी से नाराज अभिभावक शनिवार को राज नगर स्थित प्रबंधन कार्यालय पर जा पहुंचे और जमकर हंगामा किया। अभिभावकों ने बताया कि स्कूल प्रबंधन द्वारा बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा दी जा रही है और इसीके ऐवज में पूर्ण स्कूल फीस की मांग की जा रही है। कोरोना महामारी के कारण आर्थिक स्थिति बेपटरी हो चुकी है, परंतु स्कूल संचालक अभिभावकों की जेब पर डाका डालने को बैठे नजर आ रहे हैं। प्रबंधन से मांग की गई है कि ऑनलाइन शिक्षा दिए जाने के ऐवज में ट्यूशन फीस ली जाए, किंतु प्रबंधन खेलकूद सहित अन्य गतिविधियों का शुल्क भी वसूलना चाहता है। प्रबंधन की इस मनमानी के खिलाफ जिला कलेक्टर से शिकायत की जाएगी।
कमीशनखौरी के चलते स्कूल कोर्स भी बदला
उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्कूलों के संचालन पर पूरी तरह से रोक लगी हुई है और लोगों पर आर्थिक संकट भी मंडरा रहा है। ऐसे में शाजापुर के इटर्नल स्कूल द्वारा अभिभावकों से मोटी रकम फीस के नाम पर वसूले जाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। अभिभावकों का आरोप है कि प्रबंधन द्वारा नियमित लगने वाले स्कूल की फीस ही मांगी जा रही है और कमीशनखौरी के चलते इस वर्ष का स्कूल कोर्स भी प्रबंधन द्वारा बदल दिया गया है। अब प्रबंधन नया कोर्स खरीदने के लिए भी दबाव बना रहा है। आर्थिक मंदी के दौर में आठ से दस हजार रुपए का कोर्स खरीद पाना संभव नही है, इसलिए अब प्रबंधन के खिलाफ जिला प्रशासन से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की जाएगी। साथ ही जब तक नियमित स्कूल नही लगेंगे तब तक फीस भी नही दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*