Fri 03 12 2021
Home / Articles / ड्रोन हमले को रोकने के लिए चाहिए हमें भी एंटी ड्रोन सिस्टम
ड्रोन हमले को रोकने के लिए चाहिए हमें भी एंटी ड्रोन सिस्टम

ड्रोन हमले को रोकने के लिए चाहिए हमें भी एंटी ड्रोन सिस्टम

आतंकवादी ड्रोन हमलो को रोकने के लिए अब हमारी भारतीय सेना के पास  उसका अपना एक मजबूत रडार सिस्टम  होना चाहिए क्योंकि जम्मू हवाई अड्डे के वायुसेना बैस पर ड्रोन द्वारा किया गया हमला हमारी सेना के लिए एक चिंता का सबब है अब तक तो ड्रोन से हथियार भारतीय क्षेत्र में भेजे जाते थे पर अब इनसे विस्फोटकों द्वारा हमला किया जाना एक नई चिंता की बात है क्योंकि यह ड्रोन पाकिस्तान की तरफ से हैं। अतः हमारा दुश्मन नंबर वन पाकिस्तान ही है

अब कंगले पाकिस्तान के पास अपने स्वयं के ड्रोन तो मौजूद नहीं होंगे तब उसके सबसे बड़े आका, मददगार चीन जो हमारा दुश्मन नंबर दो है ने ही उसे यह ड्रोन एवं हथियार सप्लाई किए होंगे पूर्व में भी इसी तरह के ड्रोन पंजाब में उडते देखे गए थे । आज पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ही आतंकवादियों की मदद करके भारत में आतंक का यह खेल खेलती आ रही है। ऐसा भी कहा जाता है कि यह ड्रोन हमले पाकिस्तान के मीरपुर जिले की झेलम नदी के पास स्थित मंगला डैम इलाके से ट्रेनिंग देकर उड़ाए गए हैं अक्सर इन्हें हमारी सेना पकड नहीं पाती है क्योंकि यह काफी नीचे उड़ाए जाते हैं कहा जाता है कि ड्रोन अगर ऊपर की ओर लगातार उड़े तो फिर ये राडार में पकड़ में आ जाते हैं पर अगर इन्हें नीचे नीचे उड़ाया जाए तो फिर यह पकड़ में नहीं आते हैं। वैसे भी आज भारत के पास एंटी ड्रोन सिस्टम का भी अभाव है। आज हमें इस क्षेत्र में  ध्यान देने की जरूरत है पिछले तीन-चार सालों से एंटी ड्रोन सिस्टम लाने की बात कही जा रही है अतः अब इस पर शीघ्र अति शीघ्र विचार किया जाना चाहिए क्योंकि आज तो इन ड्रोन हमले से कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है पर अगर यह हमला किसी पेट्रोलियम टैंकर पर किया जाता तो काफी नुकसान हो सकता था क्योंकि वायु सेना स्टेशन में ईंधन के भंडार खुले आसमान के नीचे ही होते हैं अतः इनकी सुरक्षा व्यवस्था के लिए सुरक्षा कवच मजबूत करना ही होगा।हमारा तो यह भी कहना है कि अब बहुत हुआ भारत को अब शीघ्र अति शीघ्र एक और सर्जिकल स्ट्राइक की तैयारी कर ही लेना चाहिए। पाकिस्तान जब तक हर साल 2 साल 3 साल में भारत के जूते नहीं खाता तब तक उसे मजा भी नहीं आता है अतः आज भारत सरकार को पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर इसी साल एक बार फिर से सर्जिकल स्ट्राइक करने की पूरी तैयारी कर लेना चाहिए ।आज अब जब कश्मीर में जहां काफी नॉर्मैलसी आ रही है वहीं पाकिस्तान के पेट में कुछ ज्यादा ही दुख रहा है और वह कुछ ऐसी बेहूदा हरकतें कर रहा है कि कश्मीर में अशांति फैल जाएं अतःअब कोई बड़ा कांड ना हो उसके पहले भारत सरकार को वायु सेना द्वारा एक बार फिर से पाकिस्तान के कश्मीरी इलाके में जाकर आंतकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक करना  चाहिए।यह हम सब भारतीय जनों की मांग है।यह बात आज सर्वविदित है कि इन दिनों हमारे  प्रधानमंत्री अपनी ओर से कश्मीर में शांति लाने के लिए वहां के राजनीतिक नेताओं से बातचीत कर रहे हैं आम जनता से भी इस विषय में जानकारी ली जा रही है। अतः यह सब पाकिस्तान को रास नहीं आ रहा है। हमारा तो फिर आज यही कहना है कि अब शीघ्र अति शीघ्र एक बार फिर से कश्मीर में नये विधानसभा के चुनाव करवाकर सत्ता वहां के ही नेताओं के हाथ में सौंप देना चाहिए ताकि वह अपने ढंग से अपने क्षेत्र का विकास कर सकें क्योंकि यूं भी वहां से धारा 370 हटाने के बाद अब कश्मीर का सीधा संबंध केंद्र सरकार से जुड़ चुका है तथा एक झंडा एक डंडा के विधान पर अब वहां की सरकार कार्य करेंगी यह भी तय है। तब डर किस बात का। पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए हमारे देश की सेना मौजूद हैं जो आल आउट के जरीये आंतकवादीयो  का सफाया कर ही रही है तथा मौका मिला तो हमारी सेना पाकिस्तान के कश्मीर क्षेत्र तक भी जा सकती है एवं वहां के आतंकवादी शिविरों को भी नष्ट कर सकती है। आज का हमारा कश्मीरी युवा तो अब यही  चाहता है कि कश्मीर में ज्यादा से ज्यादा विकास हो ।आज कश्मीर के बच्चों के हाथ में पहले की तरह अब पत्थर भी नहीं है आज उनके हाथों में कंप्यूटर है और वह आगे पढ़ना भी चाहते हैं। भारत के अन्य क्षेत्रों में जाकर अपनी सर्विस सेवा करना चाहते हैं। कश्मीर का पर्यटन उद्योग भी अब धीरे-धीरे गति पकड़ रहा है। वहां पर्यटक भी काफी तादाद में आने लगे हैं  इसी तरह से फिल्म उद्योग वाले भी अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए कश्मीर की राह पकड़ने लगे हैं तथा कश्मीर का माहौल जो हमेशा ही खुशनुमा रहता है जहां केसर की क्यारियां अब महकने लगी है। डल झील की रौनक भी अब देखने लायक है तथा आजकल 10 -15 फिल्मों की शूटिंग भी वहां चल रही है। अतः हमारा तो यही कहना है कि आज कश्मीर और अधिक तरक्की करें और अधिक खुबसूरतिया बिखेरे यही कामना है क्योंकि आखिर  कश्मीर भारत के मस्तक का भाल जो है।
मनमोहन राजावत”राज”, शाजापुर
मोबाइल 9009978184.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*