Mon 13 07 2020
Home / Breaking News / छात्र अपने घर पर ही Digilap-Whatsapp ग्रुप द्वारा शिक्षा ग्रहण करेंगे
छात्र अपने घर पर ही Digilap-Whatsapp ग्रुप द्वारा शिक्षा ग्रहण करेंगे

छात्र अपने घर पर ही Digilap-Whatsapp ग्रुप द्वारा शिक्षा ग्रहण करेंगे

      शाजापुर, राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा र्व्व्ड ैव्थ्ज्ॅ।त्म् के माध्यम से प्रदेश के सभी जेडी, डीईओ, डीपीसी, डाईट प्राचार्य की वीडीयो कांफ्रेंसिंग में बताया गया है कि लॉकडाउन अवधि में लेपटॉप एवं मोबाइल के माध्यम से जोड़कर व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से बच्चों को ई-कंटेंट भेज कर शिक्षा प्रदान की जायेगी।
उक्त जानकारी देते हुए जिला परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र श्री आर.एस. शिप्रे ने बताया कि वीडियों कांफ्रेंसिंग में जिला एवं संकुल स्तर पर डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप बनाने के निर्देश दिये गये है। निर्देश के अनुक्रम मे जिले के सभी बी.आर.सी को निर्देशित किया गया कि वे तत्काल सभी जनशिक्षकों से संकुल स्तर पर डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप बनाने कि कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे। डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप बनाने के संबंध मे गाइड लाइन सभी बीआरसीसी को भेजी गई है। संकुल स्तर पर प्रत्येक शाला के शिक्षकों को डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप मे जोड़ा जायेगा एवं शाला स्तर पर विषय शिक्षक अपने-अपने बच्चों को उनके पालकों के मोबाइल नम्बर से डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप बनायेगे। राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल से प्राप्त ई-कंटेंट को शिक्षक बच्चों के डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप मे भेजेगें। शिक्षकों द्वारा सुनिश्चित किया जायेगा कि प्रतिदिन कितने बच्चों ने ई-कंटेंट का उपयोग किया है। सभी बच्चों को ई-कंटेंट का उपयोग करने का उत्तरदायित्व शिक्षकों का होगा। बच्चों/पालको जिनके पास एंड्रायड मोबाइल एवं नेट की सुविधा उपलब्ध नही है ऐसे छात्रों के लिये रेडयों कार्यक्रम भी 1 अप्रैल 2020 से सुबह 11.00 बजे से 12.00 बजे तक प्रारम्भ किया जा रहा है। सभी शिक्षक इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करेंगे। इसके लिए अपने ग्राम एवं वार्ड में पंचायत के माध्यम से डोंडी पिटवायी जायेगी, जिससे बच्चों एवं पालकों को जानकारी प्राप्त हो सके।

विद्यार्थियों के पालकों से अपेक्षा

प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी ने विद्यार्थियों के पालकों से अपेक्षा की है कि अध्ययन की निरंतरता की दृष्टि से वे लॉकडाउन अवधि में विद्यार्थियों को घर पर नियमित अध्ययन करने के लिये प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि पालक सुनिश्चित करें कि कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थी अपनी हिंदी और अंग्रेजी की पुस्तक से प्रतिदिन कम से कम 1 पेज पढ़ें और 1 पेज लिखें। कक्षा 1 से 3 तक के विद्यार्थी स्लेट पर और 4 से 12 तक के विद्यार्थी पुरानी कॉपियों में लेखन कार्य कर सकते हैं। इस दौरान कक्षा 3 से 5 तक के विद्यार्थी 15 तक के पहाड़े दुहरायें और याद करें। इसी प्रकार कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थी न्यूनतम 20 तक के पहाड़े कंठस्थ करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*