Sun 15 05 2022
Home / Breaking News / कलेक्टर ने किया ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों का निरीक्षण
कलेक्टर ने किया ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों का निरीक्षण

कलेक्टर ने किया ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों का निरीक्षण

शाजापुर। विद्यालयों में बने अतिरिक्त कक्षों एवं विद्यालय के सभी कक्षों का बराबर उपयोग करें तथा उनका समुचित रखरखाव करें, उन्हें जर्जर नहीं होने दें। उक्त निर्देश कलेक्टर दिनेश जैन ने ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों के निरीक्षण के दौरान दिए। कलेक्टर ने गतदिनों ग्राम पचोर के प्राथमिक विद्यालय, लसुल्डिय़ा जगमाल के प्राथमिक, माध्यमिक विद्यालय, दुपाड़ा के शासकीय उमावि एवं माध्यमिक विद्यालय, चौमा के निर्माणाधीन उमावि तथा कुम्हारिया खास के एकीकृत शाला परिसर का निरीक्षण किया। इस दौरान अनुविभागीय अधिकारी शैली कनाश भी मौजूद थीं। कलेक्टर जैन ने सर्वप्रथम ग्राम पचोर के शासकीय प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया। यहां बने 3 अतिरिक्त कक्षों का उपयोग नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए निर्देश दिए कि कक्षों का समुचित उपयोग कर रखरखाव करें। वर्तमान में जिस भवन में विद्यालय संचालित हो रहा है, वहां भी अन्य व्यक्ति द्वारा अपना व्यक्तिगत सामान रखने पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की और प्रधानाध्यापक को तत्काल सामान हटवाने के निर्देश दिए। विद्यालय परिसर में बने गड्ढों को भी भरने के निर्देश दिए गए। यहां सार्वजनिक कूप में ग्रामीणों द्वारा कचरा डालने पर आपत्ति लेते हुए कलेक्टर ने ग्राम पंचायत सचिव को निर्देश दिए कि कुएं से कचरा साफ कराएं। स्कूल भवन के पास स्थित हैण्डपंप के आसपास बड़ी मात्रा में गंदगी पाई जाने पर कलेक्टर ने सचिव को ग्राम में स्वच्छता रखने के लिए सख्त निर्देश दिए। साथ ही जनपद पंचायत सीईओ को निर्देश दिए कि जिन सचिवों द्वारा काम नहीं किया जा रहा है, वहां विशेष ध्यान देकर विकास कार्य कराएं। ग्राम लसुल्डिय़ा जगमाल के प्राथमिक-माध्यमिक विद्यालय के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने विद्यार्थियों से गणित एवं अग्रेजी विषय के संबंध में अब तक कराए गए कोर्स की जानकारी ली। कलेक्टर ने शिक्षिका को निर्देश दिए कि कोर्स पूरा कराने में तेजी लाएं। दुपाड़ा के शासकीय उमावि परिसर में 62 लाख रुपए लागत से बन रहे विज्ञान भवन का निरीक्षण कलेक्टर ने किया। इसी तरह दुपाड़ा में ही विद्यार्थियों से चर्चा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि शैक्षणिक सत्र का समय कम बचा है। अत: तेज गति से अध्ययन करें। कलेक्टर ने शिक्षकों से कहा कि कमजोर बच्चों पर फोकस करें और माह दिसंबर तक कोर्स पूरा कराएं। शासकीय उमावि में अध्यापन एवं विद्यालय की जानकारी प्रभारी प्राचार्य दिनेशकुमार पॉलीवाल द्वारा दी गई। दुपाड़ा के ही माध्यमिक विद्यालय का निरीक्षण करते हुए कलेक्टर ने यहां पुराने भवन को डिस्मेंटल कर नया भवन बनाने का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। ग्राम चौमा में 175 लाख रुपए लागत से निर्माणाधीन शासकीय उमावि भवन का भी निरीक्षण किया।
कलेक्टर की समझाईश पर विद्यालय भवन बनाने की अनुमति
ग्राम लसुल्डिय़ा जगमाल में वर्ष 2007 में ग्राम के ही देवीसिंह पिता तिंगुसिंह ने 0.20 हेक्टेयर भूमि विद्यालय भवन निर्माण के लिए शासन के पक्ष में दान दी थी। इसके बाद इस भूमि पर विद्यालय का निर्माण कार्य छत स्तर तक पूरा भी कर लिया गया था, किन्तु इसके बाद कुछ विवाद होने के कारण देवीसिंह एवं उनकी माताजी ने विद्यालय भवन निर्माण का कार्य रूकवा दिया था। कलेक्टर दिनेश जैन द्वारा ग्राम लसुल्डिय़ा जगमाल के विद्यालय का निरीक्षण किया गया था। इस दौरान डीपीसी ने बताया कि ग्राम में दान की भूमि पर विद्यालय का निर्माण चल रहा था, लेकिन विवाद के कारण अब अधूरा है। कलेक्टर ने निर्माणाधीन भवन के स्थल का निरीक्षण कर दानदाता से चर्चा की। दानदाता देवीसिंह कलेक्टर की समझाईश पर विद्यालय भवन का कार्य पुन: शुरू कराने के लिए सहमत हो गया। दानदाता की सहमति को देखते हुए कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी एवं डीपीसी को निर्देश दिए कि वे भवन का शेष निर्माण कार्य पूरा कराएं। साथ ही उन्होने अनुविभागीय अधिकारी को भी निर्देश दिए कि जितनी भूमि दानदाता से प्राप्त हुई है उतनी ही शासकीय भूमि में से दानदाता को एक्सचेंज के रूप में प्रदान करें। दानदाता द्वारा विद्यालय भवन निर्माण की सहमति देने पर ग्रामीणों में हर्ष है। वर्तमान में जिस भवन में माध्यमिक विद्यालय संचालित हो रहा है वह अत्यंत सकरा है, इसे देखते हुए विद्यार्थियों के लिए नए भवन की आवश्यकता है।
कुम्हारिया खास के एकीकृत विद्यालय को सोलर विद्यालय बनाएं
भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने ग्राम कुम्हारिया खास के एकीकृत विद्यालय का निरीक्षण किया। यहां एक दानदाता द्वारा विद्यालय को सोलर प्लांट लगाकर विद्युत उपलब्ध कराने, विद्यार्थियों के लिए कम्प्यूटर एवं एसी प्रदान करने पर कलेक्टर ने दानदाता की प्रशंसा करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को दानदाता को सम्मानित करने के लिए कहा। इस दौरान प्रधानाध्यापक ने बताया कि नलकूप के लिए विद्युत कनेक्शन लेना है। कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी से कहा कि वे सोलर एनर्जी से चलने वाली मोटर नलकूप में डलवाएं। साथ ही उन्होने कहा कि अब इस विद्यालय में विद्युत कनेक्शन न लेते हुए पूरे विद्यालय को सोलर स्कूल बनाएं।
मतदान केन्द्रों का निरीक्षण
भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने इन विद्यालयों में बने मतदान केन्द्रों का भी निरीक्षण किया। सभी बूथ लेवल अधिकारियों से गरूड़ एवं वोटर हेल्पलाइन एप्प के संचालन के बारे में पूछा। कलेक्टर ने सभी बीएलओ को निर्देशित किया कि वे शाम के समय ग्राम का भ्रमण करें और 01 जनवरी 2022 को 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले युवाओं का नाम मतदाता सूची में जोड़ें। कलेक्टर ने सभी बीएलओ को समय सीमा में मतदाता सूची के पुनरीक्षण का कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होने बीएलओ एवं पंचायत सचिवों को कोरोना वैक्सीनेशन के द्वितीय डोज का लक्ष्य पूरा करने के भी निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*