Tue 30 11 2021
Home / Breaking News / चीलर बांध का जल स्तर पहुंचा साढ़े 22 फीट, सोयाबीन फसल में नुकसान का अंदेशा
चीलर बांध का जल स्तर पहुंचा साढ़े 22 फीट, सोयाबीन फसल में नुकसान का अंदेशा

चीलर बांध का जल स्तर पहुंचा साढ़े 22 फीट, सोयाबीन फसल में नुकसान का अंदेशा

शाजापुर। देररात शुरू हुआ बारिश का सिलसिला दूसरे दिन भी जारी रहा और आसमान से बरस रहीं मेघ की बूंदों के कारण कहीं राहत तो कहीं आफत खड़ी हो गई। वहीं बारिश के चलते फसल में नुकसान का अंदेशा भी बढ़ गया है तो पहले से खस्ताहाल शहर की सडक़ें और अधिक बदहाल अवस्था में जा पहुंची हैं। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार रात से जारी बारिश का दौर शनिवार को भी रूक-रूककर चलता रहा, जिसके चलते चीलर बांध में पानी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। सिंचाई विभाग से मिली जानकारी के अनुसार चीलर बांध में शाम करीब 4 बजे तक साढ़े 22 फीट पानी जमा हो गया था। इसीके साथ बादलों के बरसने से बिजाना सहित अन्य पुलियाओं से तट बंधन तोडक़र नदी के पानी ने आवागमन बाधित कर दिया। हालांकि पुलिया पर पानी का तेज बहाव होने के बाद भी लोग जान जोखिम में डालकर पुलिया पार करते नजर आए।
खंतियां बनी परेशानी, फसलों में नुकसान का अंदेशा
बारिश के कारण नदी नाले उफान पर आ गए और इसीके साथ खेतों में जमा होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें दिखार्ई देने लगी हैं। किसानों का कहना है कि सोयाबीन फसल पकने को है, ऐसे में खेतों में पानी जमा हो जाने से उत्पादन पर प्रभाव पड़ सकता है। वहीं शहर में मलजल योजना के तहत खोदी गई खंतियां रूक-रूककर बरस रहे बदरा की वजह से लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गईं। महूपुरा, सोमवारिया बाजार सहित अन्य इलाकों में सडक़ पर कीचड़ पसरने से राहगीरों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ा। गौरतलब है कि मलजल योजना के नाम पर लंबे समय से जिम्मेदारों के द्वारा लोगों को परेशानी परोसी जा रही है। मामले में कई बार स्थानीय लोगों ने सीएम हेल्प लाइन पर भी शिकायत दर्ज कराई है, लेकिन समस्या के समाधान को लेकर कोई गंभीरता नही दिखाई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*