Sun 01 11 2020
Home / Shajapur News / अतिथि शिक्षकों ने शिक्षक दिवस पर मनाया काला दिवस
अतिथि शिक्षकों ने शिक्षक दिवस पर मनाया काला दिवस

अतिथि शिक्षकों ने शिक्षक दिवस पर मनाया काला दिवस

शाजापुर। एक तरफ जहां शिक्षक दिवस पर शिक्षकों का सम्मान किया जाता है। लेकिन अतिथि शिक्षकों को इस बार का शिक्षक दिवस काला दिवस के रूप में मनाना पड़ा। कारण यह कि इन दिनों अतिथि शिक्षक बेरोजगार बैठे हुए हैं। उनके समक्ष परिवार की आजीविका चलाने के लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सरकार भी उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रही है। 5 सितम्बर शनिवार को शिक्षक दिवस था। यह दिवस अतिथि शिक्षकों द्वारा काला दिवस के रूप में मनाकर विरोध प्रदर्शन किया।

अतिथि शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष मोहनलाल बामनिया ने बताया कि शनिवार को जिले के समस्त अतिथि शिक्षक स्थानीय राजराजेश्वरी देवी मंदिर प्रांगण में एकत्र हुए। जहां से काली पट्टी बांधकर रैली के रूप में कलेक्टोरेट कार्यालय पहुंचे। जहां धरना प्रदर्शन आयोजित किया गया। धरना प्रदर्शन के पश्चात प्रदेश के मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि मध्यप्रदेश के समस्त शासकीय विद्यालयों में लगभग 70 हजार अतिथि शिक्षक बहुत ही अल्प मानदेय पर विगत कई वर्षों से सेवाएं देते आ रहे हैं। जिनको जुलाई अगस्त माह में सेवा में लेकर कभी भी सेवा से पृथक कर दिया जाता है। कई वर्ष सेवा करने के बाद भी अतिथि शिक्षकों का भविष्य सुरक्षित नहीं है। असुरक्षित भविष्य और आर्थिक तंगी की वजह से अभी तक कई अतिथि शिक्षक आत्महत्या कर चुके हैं। ज्ञापन में मुख्यमंत्री महोदय से अतिथि शिक्षकों के हित में नीति बनाकर बारह माह का सेवाकाल करते हुए भविष्य सुरक्षित करने की मांग की गई है। ज्ञापन सौंपे जाते समय अतिथि शिक्षक संघ के हरपालसिंह जाधव, जगदीश नागर जग्गी, रईस शेख, रामनाथ सिंह, गोकुल बामनिया, रमेश बामनिया, मोहित पाटीदार, जगदीश सूर्यवंशी, आनंद सूर्यवंशी, हेमंत शर्मा, रज्जाक खान, शिव कुमार, कमल कलवाड़िया, रईस मंसूरी, बृजपाल सोनगरा, मुकेश बामनिया, आशीष शर्मा, घनश्याम अमगाया, ईश्वर पुरी आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*