Sat 11 07 2020
Home / Breaking News / अंधेरा होते ही स्टेडियम मैदान पर छलकते हैं शराब के प्याले, फूटी बोतलों से खिलाडिय़ों को होती है परेशानी
अंधेरा होते ही स्टेडियम मैदान पर छलकते हैं शराब के प्याले, फूटी बोतलों से खिलाडिय़ों को होती है परेशानी

अंधेरा होते ही स्टेडियम मैदान पर छलकते हैं शराब के प्याले, फूटी बोतलों से खिलाडिय़ों को होती है परेशानी

शाजापुर। स्थानीय स्टेडियम ग्राउंड शाम होते ही शराबियों की गिरफ्त में आकर मयखाना के रूप में तब्दील हो जाता है और यहां नशेड़ी शराब पीने के बाद खाली बोतलों को यहीं फेंकने के साथ फोडक़र चले जाते हैं जिसके कांच मैदान में चारों तरफ बिखरे होने से खेलने और अभ्यास करने वाले खिलाडिय़ों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है। उल्लेखनीय है कि शहर का सबसे बड़ा खेल मैदान स्टेडियम है, जहां तमाम खिलाड़ी प्रतिदिन अभ्यास करने के साथ ही विभिन्न खेल खेलने आते हैं, लेकिन जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण उक्त मैदान रात के अंधेरे में शराबियों के कब्जे में रहता है और यहां जमकर जाम के प्याले छलकने के साथ ही अन्य असामाजिक गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है। जिम्मेदार भी इस बात से बखुबी वाकिफ हैं, परंतु इसके बाद भी उनके द्वारा मामले में कोई ठोंस कार्रवाई नही की जा रही है जिसके चलते शाम होते ही मैदान में नशेडिय़ों का कब्जा हो जाता है। गौरतलब है कि स्टेडियम मैदान बड़ा होने के कारण यहां निजी खेल संस्थाओं, क्लब और स्कूलों के द्वारा विभिन्न खेल गतिविधियां वर्षभर करवाई जाती हैं और प्रशासन एवं शिक्षा विभाग द्वारा करवाई जाने वाली खेल गतिविधियां भी यहीं संपन्न होती हैं, और सुबह-शाम नगर के गणमान्य नागरिक भी परिवार सहित यहां घूमने आते हैं, किंतु अंधेरा होते ही यह मैदान शराबियों का अड्डा बना जाता है और शराबी नशा करने के बाद बोतलें फेंकने के साथ उन्हें फोडक़र चले जाते हैं, ऐसे में मैदान में कांच के टुकड़े देखे जा सकते हैं।
कई बार कर चुके हैं शिकायत
स्टेडियम ग्राउंड वर्षों से खिलाड़यिों का पसंदीदा रहा है और इसीके चलते इसे सुरक्षित रखने और साफ-सफाई के लिए कई बार शिकायत की जा चुकी हैं, फिर भी जिम्मेदारों ने ध्यान नही दिया है। स्टेडियम ग्राउंड पर अभ्यास कर रहे खिलाडिय़ों ने नाम नही छापने की शर्त पर बताया कि वे प्रतिदिन मैदान में रनिंग और अभ्यास करते हैं, लेकिन रनिंग के पहले उन्हे रोज मैदान से खाली बोतलें और कांच के बड़े-बड़े टुकड़े हटाना पड़ते हैं इसके बाद भी कई बार खिलाडिय़ों के पैरों में कांच चुभ जाते हैं। खिलाडिय़ों ने बताया कि बड़े टुकड़े तो हम हटा देते हैं, लेकिन छोटे-छोटे टुकड़े हर तरफ बिखरे रहते हैं जिसकी वजह से खेलने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*