Sat 27 11 2021
Home / Breaking News / अल्लाह की इबादत के लिए शबेकद्र पर कल पूरी रात जागेगा मुस्लिम समाज
अल्लाह की इबादत के लिए शबेकद्र पर कल पूरी रात जागेगा मुस्लिम समाज

अल्लाह की इबादत के लिए शबेकद्र पर कल पूरी रात जागेगा मुस्लिम समाज

शाजापुर। रहमतों और बरकतों के महीने माहे रमजान की विदाई की घड़ी नजदीक आ चली है और मुस्लिम समाज के लोगों की आंखें माहे मुबारक की विदाई को लेकर नम दिखाई दे रही हैं। कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष भी घरों में तरावीह की विशेष नमाज अदा किए जाने के साथ ही तिलावते कुरआनी भी की जा रही है। वहीं कल रविवार को माहे मुबारक की सबसे बड़ी रात शबे कद्र है, जिस पर मुस्लिम धर्मावलंबी पूरी रात जगराता कर अपने परवरदिगार को राजी करने के लिए नमाज और कुरआन पढ़ेंगे।
उल्लेखनीय है कि 14 अप्रैल को पहले रोजे के साथ पवित्र माह रमजान की शुरूआत हो गई थी और इसके बाद से मुस्लिम समाज के लोग अपने रब की इबादत में जुटे हुए हैं। ऑल इंडिया मुस्लिम त्यौहार कमेटी के जिलाध्यक्ष सज्जादअहमद कुरैशी ने बताया कि माहे रमजान में ही 27वीं शब को पवित्र कुरआन नाजिल हुआ था। इस्लामी मान्यतानुसार 23 बरस में कुरआन के पूरे 30 पारे इसी रात में मुकम्मल हुए और इस रात को शबे कद्र की रात कहा गया और इस रात में की गई इबादत हजार रातों की इबादत से अफजल है। कुरैशी ने बताया कि माहे रमजान में 10-10 दिनों के तीसरे असरे होते हैं जिसमें पहला असरा रहमतों का, दूसरा असरा बरकतों का और तीसरा असरा जहन्नुम की आग से रिहाई के लिए है। इसलिए इस माह का ऐहतराम करते हुए मुस्लिम समाज के लोग पूरे तीस दिनों तक अल्लाह की इबादत पूरी शिद्दत के साथ कर रहे हैं। वहीं बच्चे भी इबादत में मशगुल हैं।
रोशनी से झिलमिला रहीं मस्जिदें
कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष भी माहे रमजान में मुस्लिम समाजजन घरों पर ही रहकर इबादत कर रहे हैं। कुरआन की तिलावत के साथ ही तरावीह की विशेष नमाजें भी पढ़ी जा रही हैं। इसीके साथ मस्जिदें भी रंग-बिरंगी रोशनी से झिलमिला रहीं। शबे कद्र के बाद समाज के लोग ईद की तैयारियों में जुट जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*