Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / पुलिस और न्यायपालिका के मध्य पुल का काम करता है अभियोजन- विजय यादव
पुलिस और न्यायपालिका के मध्य पुल का काम करता है अभियोजन- विजय यादव

पुलिस और न्यायपालिका के मध्य पुल का काम करता है अभियोजन- विजय यादव

शाजापुर। सीएपीटी सेन्ट्रल एकेडमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग में मंगलवार को अभियोजन अधिकारियों की तृतीय नेशनल ऑनलाईन कांफ्रेंस का उद्घाटन भापुसे महानिदेशक/संचालक लोक अभियोजन मप्र विजय यादव द्वारा किया गया। इस कांफ्रेंस में राष्ट्रीय स्तर के अभियोजन अधिकारी शामिल हुए। इस दौरान यादव ने लोक अभियोजकों के कार्यों की सराहना करते हुए उन्हे न्याय व्यवस्था का अति महत्वपूर्ण अंग बताया। इस मौके पर पवन श्रीवास्तव भोपाल भी मौजूद थे। जिला मीडिया प्रभारी एवं एडीपीओ सचिन रायकवार ने बताया कि कॉन्फ्रेंस मेंराष्ट्रीय स्तर के अभियोजन विभाग के संचालक और अन्य चयनित अधिकारियों ने भाग लिया। नेशनल कॉन्फ्रेंस का आयोजन प्रतिवर्ष किया जाता है। वर्तमान कोविड 19 की विषम परिस्थितियों को देखते हुए इस वर्ष कॉन्फ्रेंस का आयोजन पूर्वानुसार फिजिकल न किया जाकर ऑनलाईन किया गया। इस दौरान संचालक यादव ने मप लोक अभियोजन द्वारा हासिल की गई उपलब्धियों को पीडि़त एवं फरियादियों को समर्पित करते हुए बताया कि लोक अभियोजन पीडि़त व्यक्ति को उचित व समय पर न्याय दिलाने हेतु दृढ़ संकल्पित है। उन्होने कहा कि पुलिस और न्यायपालिका के मध्य अभियोजन पुल की भूमिका निभाता है। ऐसे में इस पुल को व्यापक चौड़ा और मजबूत होने की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर अभियोजन अधिकारियों को जेण्डर सेंसेटाइजेशन के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है, इस हेतु प्रत्येक राज्य में अभियोजन के प्रशिक्षण केन्द्र की जरूरत है। यादव ने लोक अभियोजकों की नियुक्तियों को बढ़ाए जाने की आवश्यकता को भी रेखांकित किया, ताकि प्रत्येक न्यायालय में अभियोजक की नियुक्ति हो सके और समय पर उचित न्याय पीडि़त पक्ष को दिलाया जा सके। उन्होने कहा कि हम अपने अधिकारियों के विधिक संवर्धन हेतु विभिन्न प्रशिक्षणों के माध्यम से सदैव प्रयासरत् रहते हैं और भविष्य में भी न्याय व्यवस्था के महत्वपूर्ण अंग की जिम्मेदारी को समझते हुए सदैव अग्रणी रहने का प्रयास करेंगे। उन्होने सीएपीटी डायरेक्टर पवन श्रीवास्?तव को बधाई देते हुए प्रशंसा की कि राष्ट्रीय स्तर पर सभी राज्यों के अभियोजकों का आपस में संवाद और सार्थक चर्चा के प्रयास हेतु मैं आपको साधुवाद देता हूं। निश्चित ही इस नेशनल ऑनलाईन कॉन्फ्रेंस से राष्ट्रीय स्तर पर लोक अभियोजकों को एक विशेष गति एवं दिशा प्राप्त होगी। कॉन्फ्रेंस में मौजूद प्रख्यात संकाय अतिथि वक्ताओं द्वारा अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम, महिलाओं और बच्चों पर अत्याचार, अपराध विषय पर व्याख्यान दिए गए। साथ ही अभियोजकों को और अधिक मजबूत करके अभियोजन में सुधार किए जाने पर चर्चा की गई ताकि पीडि़त को सरल एवं उचित न्याय दिलाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*