Mon 17 02 2020
Home / Breaking News / बुरी नियत से नाबालिक का हाथ पकड़ने पर 05 साल की सजा व 17 हजार रूपये अर्थदण्ड
बुरी नियत से नाबालिक का हाथ पकड़ने पर 05 साल की सजा व 17 हजार रूपये अर्थदण्ड

बुरी नियत से नाबालिक का हाथ पकड़ने पर 05 साल की सजा व 17 हजार रूपये अर्थदण्ड

न्यायालय विशेष न्यायाधीश लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 एवं द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश महोदय शाजापुर द्वारा आरोपी ओम प्रकाश उर्फ प्रकाश पिता रामसिंह चमार उम्र 28 वर्ष निवासी ग्राम झोंकर थाना मक्सी जिला-शाजापुर को लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 08 में 05 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 5000/- रूपये के अर्थदण्ड व धारा 12 में 03 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 5000 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। उक्त अर्थदण्ड की राशि जमा ना करने पर पृथक से 1-1 वर्ष के अतिरिक्त सश्रम कारावास की भी सजा आरोपी को भुगतायी जायेगी।

इसी प्रकरण में आरोपी को भा0द0स0 की धारा 354 में 3 वर्ष का सश्रम कारावास व 5,000 रूपये के अर्थदण्ड से भी दण्डित किया गया, उक्त अर्थदण्ड की राशि जमा ना करने पर आरोपी को 1 वर्ष के अतिरिक्त सश्रम कारावास की सजा भुगतायी जायेगी तथा भा0द0स0 की धारा 354 क में 1 वर्ष के सश्रम कारावास व 2,000 रूपये के अर्थदण्ड से भी दण्डित किया गया, उक्त अर्थदण्ड की राशि जमा ना करने पर आरोपी को 3 माह के अतिरिक्त सश्रम कारावास की सजा भुगतायी जायेगी।

अर्थदण्ड की राशि जमा होने पर उसमें से 10,000 रूपये प्रतिकर स्वरूप अभियोक्त्री/पीड़िता को अपील अवधि उपरांत दिलाये जाने के आदेश भी दिये गये।
मीडिया प्रभारी सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि, घटना दिनांक 06.10.2018 की है। फरियादिया तथा उसकी सहेली काॅलेज से दिन के 1 बजे करीब उनके घर झोंकर जा रही थी तभी उनके पीछे-पीछे उनके गावों का ओमप्रकाश  निवासी झोंकर आया व झोंकर अस्पताल के पास उनके आगे-पीछे होने लगा तो उन्होंने बोला की उनके आगे-पीछे क्यों हो रहा है तो आरोपी ओमप्रकाश ने उन्हें गंदी-गंदी गालियां दी और फरियादिया के पास आकर बुरी नियत से फरियादिया का दाहिना हाथ पकड़ लिया। फरियादिया के चिल्लाचोट करने पर आरोपी बोला की यह बात किसी को बताई तो जान से खत्म कर देगा। इतने में फरियादिया के गावों के लोग आ गये थे। घटना की रिपोर्ट थाना मक्सी पर फरियादिया ने घटना वाले दिन ही लिखाई थी जिस पर से पुलिस थाना मक्सी पर अपराध क्रमांक 278/2018 पर अपराध पंजीबद्ध कर पृथम सूचना रिपोर्ट आरोपी के विरूद्ध भा0द0स0 की धारा 354, 354(घ), 294, 506 एवं पाक्सो एक्ट की धारा 7 व 8 के अंतर्गत दर्ज की थी। विवेचना उपरांत आरोपी के विरूद्ध अभियोग पत्र सक्षम न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था।
प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवीकर्ता श्री रमेश सोलंकी अति. जिला लोक अभियोजन अधिकारी व श्री देवेन्द्र मीणा विशेष लोक अभियोजक ने गवाह कराये। उक्त प्रकरण में शासन की ओर से पैरवीकर्ता विशेष लोक अभियोजक श्री देवेन्द्र मीणा डीपीओ शाजापुर के द्वारा किये गये तर्कांे से सहमत होते हुये आरोपी ओमप्रकाश उर्फ प्रकाश द्वारा पीड़िता के साथ की गई उक्तानुसार घटना व अपराध के स्वरूप को दृष्टिगत रखते हुये वर्तमान समय में अवयस्क बालिकाओं के प्रति बढ़ते हुये अपराधों की संख्या, असुरक्षा एवं

अपराध के कारण उनके वर्तमान एवं भविष्य पर पड़ने वाले प्रभाव तथा परिस्थितियों को देखते हुये माननीय न्यायालय ने आरोपी को उपरोक्तानुसार दोषसिद्ध किया ।

पीड़िता के साथ हुई उक्त घटना में उसके मानसिक स्वास्थ पर पड़ने वाले प्रभाव की स्थिति में पीड़िता को उचित प्रतिकारात्मक राशि दिलाये जाने बावत् जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाजापुर को माननीय न्यायालय द्वारा अनुशंसा भी की गई है।
अभियोजन की ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक श्री देवेन्द्र मीणा डीपीओ एवं श्री रमेश सोलंकी अति. जिला लोक अभियोजन अधिकारी शाजापुर द्वारा की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*