Fri 03 12 2021
Home / Breaking News / ऑपरेशन के लिए मांगे जा रहे 7 हजार, सामान्य प्रसव का दो हजार फिक्स
ऑपरेशन के लिए मांगे जा रहे 7 हजार, सामान्य प्रसव का दो हजार फिक्स

ऑपरेशन के लिए मांगे जा रहे 7 हजार, सामान्य प्रसव का दो हजार फिक्स

भाजपा जिलाध्यक्ष ने अस्पताल पहुंचकर डॉक्टर पर कार्रवाई करने के दिए निर्देश
शाजापुर। जच्चा-बच्चा की मृत्यु दर को रोकने के लिए शासन द्वारा विभिन्न योजनाएं संचालित कर अस्पतालों में सुरक्षित प्रसव कराने हेतु लोगों को प्रेरित किया जा रहा है, लेकिन निजी अस्पतालों की तर्ज पर ही शाजापुर जिला अस्पताल में सरकार की मंशा को पलीता लगाते हुए महिला चिकित्सक और स्टॉफ नर्सों द्वारा गरीबों के साथ लूटमार की जा रही है। शाजापुर अस्पताल में लंबे समय से स्टॉफ नर्सों द्वारा सामान्य प्रसव के नाम पर अवैध वसूली के मामले सामने आते रहे हैं, परंतु अब अस्पताल की महिला चिकित्सक की करतूत सामने आई है जहां एक गरीब पीडि़ता से डॉ स्मितासिंह द्वारा ऑपरेशन के नाम पर रुपयों की मांग की गई है। जब इस बात की भाजपा जिलाध्यक्ष अंबाराम कराड़ा को जानकारी लगी तो उन्होने अस्पताल पहुंचकर संबंधित डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार शुजालपुर निवासी लक्ष्मीबाई पति जगदीश बीते तीन दिनों से प्रसव के लिए जिला अस्पताल में भर्ती थी। प्रसव में जटिलता के चलते मौजूद महिला रोग विशेषज्ञ डॉ स्मितासिंह ने अस्पताल में सीजर करने की बात कही और लक्ष्मीबाई से ऑपरेशन के लिए 7 हजार रुपए जमा करने को कहा। इस पर लक्ष्मीबाई का पति जगदीश रुपयों का इंतजाम करने में जुट गया। रुपयों का इंतजाम नही होने पर जगदीश ने डॉ स्मितासिंह से ऑपरेशन के बाद रुपया देने की बात कही, जिस पर डॉ स्मिता ने ऑपरेशन करने से इनकार कर दिया। इधर अस्पताल में नि:शुल्क रूप से होने वाले ऑपरेशन के लिए रुपए वसूले जाने की बात सामने आने पर भाजपा जिलाध्यक्ष शनिवार सुबह जिला अस्पताल जा पहुंचे और सीएमएचओ डॉ राजू निदारिया सहित स्टॉफ के साथ बैठक की। बैठक के दौरान कराड़ा ने पीडि़ता को बुलाकर उसकी शिकायत सुनी। इसके बाद अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे डॉ स्मितासिंह के खिलाफ कार्रवाई करें।
डॉ स्मिता पर पूर्व में भी रुपया वसूली के लगे हैं आरोप
गौरतलब है कि जिला अस्पताल में कार्यरत डॉ स्मितासिंह नियमों की धज्जियां उड़ाने और अवैध कार्यों को करने केे लिए हमेशा चर्चित रहती हैं। यही कारण है कि डॉ स्मितासिंह पर 3 दिसंबर 2020 को ग्राम लाहोरी में रहने वाले परिवार ने भी सीजर कराने के लिए रुपए मांगे जाने के आरोप लगाए थे। साथ ही डॉ स्मितासिंह के खिलाफ कार्रवाई को लेकर कलेक्टर दिनेश जैन को लिखित में शिकायत भी की थी। वहीं अवैध रूप से सोनोग्राफी सेंटर चलाने के मामले में भी कलेक्टर जैन ने डॉ स्मिता पर एफआईआर दर्ज कराई थी, लेकिन बावजूद इसके स्मिता अपनी मनमानी से बाज नही आ रही है और लगातार सरकारी अस्पताल में पहुंचने वाले मरीजों से भी नि:शुल्क ऑपरेशन के रुपए वसूल रही है। जो मरीज रुपए देने से इनकार कर देते हैं उन्हे रैफर कर दिया जाता है।
नि:शुल्क ऑपरेशन के वसूल रहे रुपए
उल्लेखनीय है कि आमजन को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए प्रदेश सरकार शासकीय अस्पतालों को हाईटेक करने में जुटी हुई है और जटिल गर्भवती प्रकरणों के मामलों में महिलाओं के जिला अस्पताल में नि:शुल्क ऑपरेशन की सुविधा भी दी गई है, परंतु शाजापुर जिला अस्पताल की महिला चिकित्सक स्मितासिंह लोगों से ऑपरेशन के नाम पर 8 हजार रुपए की मांग कर रही है। इतना ही नही ऑपरेशन की राशि नही देने पर गर्भवती महिलाओं को इंदौर या उज्जैन रैफर करने की बात भी कही जा रही है। जिला अस्पताल में चल रही इस अवैध वसूली को रोकने के लिए फिलहाल भाजपा जिलाध्यक्ष ने डॉ स्मिता पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
सामान्य प्रसव के वसूले जा रहे दो हजार
जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव के नाम पर भी गरीब परिवारों से दो हजार रुपए तक की वसूली की जा रही है। गतदिनों भी तालाब की पाल और महूपुरा निवासी महिला को जिला अस्पताल में सुरक्षित सामान्य प्रसव के लिए भर्ती कराया गया जहां स्टॉफ नर्सों ने गर्भवती महिलाओं से दो हजार रुपए वसूल किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*