Wed 23 09 2020
Home / Shajapur News / 12 सितम्बर के न्यायिक आदेश
12 सितम्बर के न्यायिक आदेश

12 सितम्बर के न्यायिक आदेश

गबन के आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त
शाजापुर। किसान सदस्यों से वसूली गई राशि में गबन करने वाले सहकारी संस्था के सहायक प्रबंधक का न्यायालय ने जमानत आवेदन निरस्त कर दिया है। न्यायालय प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश शाजापुर मनोजकुमार शर्मा द्वारा आरोपी मांगीलाल शर्मा पिता स्व जगन्नाथ शर्मा सहायक प्रबंधक प्राथमिक कृषि सहकारी साख संस्था मर्यादित सुनेरा का जमानत आवेदन पत्र निरस्त किया गया है। जिला मीडिया प्रभारी सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि दिनांक 28 अगस्त 2020 को प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था मर्यादित सुनेरा के संस्था प्रबंधक मेहरबानसिंह ने थाना सुनेरा पर घटना की लिखित रिपोर्ट आवेदन पत्र प्रस्तुत कर की थी कि मांगीलाल पिता जगन्नाथ सहायक प्रबंधक सुनेरा द्वारा दिनांक 03 जून 2020 से 22 जुलाई 2020 तक कुल 24 रसीदों की कुल राशि 1233840 रुपए संस्था के कृषक सदस्यों से वसूले किए गए थे। उक्त राशि वसूली के उपरांत मांगीलाल द्वारा जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित शाजापुर की शाखा सोमवारिया बजार में संस्था के सेविंग खाते में जमा कराया जाना अनिवार्य था, किंतु उसके द्वारा राशि ना तो संस्था में और ना ही बैंक में जमा कराई गई। इस प्रकार आरोपी द्वारा शासकीय सेवक होते हुए रुपयों का गबन किया गया। प्रकरण की परिस्थितियों और अपराध की गंभीरता को देखते हुए न्यायालय द्वारा आरोपी का जमानत आवेदन पत्र निरस्त किया गया। राज्य की ओर से एमएल शर्मा लोक अभियोजक शाजापुर द्वारा वीसी के माध्यम से जमानत आवेदन का विरोध किया गया।
००००००००००००००००
दुष्कर्म के आरोपी को नही मिली जमानत
शाजापुर। पीडि़ता के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी का अदालत ने जमानत आवेदन निरस्त कर दिया है। न्यायालय द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश शाजापुर द्वारा आरोपी महेश पिता जगदीश मालवीय उम्र 18 वर्ष निवासी हरिजन मोहल्ला वार्ड नंबर 7 चौमा का जमानत आवेदन पत्र गतदिनों निरस्त किया गया है। जिला मीडिया प्रभारी सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि 18 अगस्त 2020 को फरियादी ने थाना मोमन बड़ोदिया पर घटना की मौखिक रिपोर्ट की थी। आरोपी ने जबरदस्ती फरियादी के साथ दुष्कर्म काम किया था और उसको धमकी दी थी कि किसी को बताया तो उसे और उसके बेटे को जान से खत्म कर देगा और गांव में बदनाम कर देगा। आरोपी ने फरियादी के साथ कई बार दुष्कर्म किया। अपराध की गंभीरता को देखते हुए न्यायालय द्वारा आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त किया गया। राज्य की ओर से निर्मलसिंह चौहान अपर लोक अभियोजक शाजापुर द्वारा वीसी के माध्यम से जमानत आवेदन का विरोध किया गया।
०००००००००००००००००
चार लापरवाह अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस
शाजापुर। चार लापरवाह अधिकारियों को जिला कलेक्टर ने कारण बताओ नोटिस दिया है। कलेक्टर दिनेश जैन ने जिला आपूर्ति अधिकारी एचआर सुमन, उपसंचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग उप संचालक रामपालसिंह नायक और वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी ओमप्रकाश सक्सेना, वासुदेव पाटीदार को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया है। उल्लेखनीय है कि उक्त अधिकारियों के द्वारा सीएम हेल्पलाईन की शिकायतों के निराकरण में लापरवाही  बरती गई जिसके कारण शिकायत बिना निराकरण के उच्च लेवल पर प्रेषित की गई, शिकायतों का समयसीमा में निराकरण नहीं करने से जिले की रेकिंग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। इसीके चलते अधिकारियों को कार्य के प्रति गंभीर लापरवाही बरतने पर कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है। कलेक्टर ने उक्त लापरवाही के संबंध में तीन दिवस में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के लिए कहा है।
०००००००००००००००००
मूर्ति खण्डित करने वाले आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त
शाजापुर। देवी प्रतिमा को खंडित करने वाले आरोपी का न्यायालय ने जमानत आवेदन निरस्त कर दिया है। न्यायालय जेएमएफसी  शुजालपुर द्वारा आरोपी धूमेन पारदी पिता दिलराज पारदी उम्र 23 वर्ष निवासी मुर्दी खेड़ी का जमानत आवेदन पत्र निरस्त किया गया है। 22 अगस्त 2020 को फरियादी जुगलकिेशोर उसके मकान के सामने बने छोटा मंदिर मां नर्मदेश्वरी माताजी की रात्रि 8 बजे पूजा करके अपने घर वापस आ गया था। सुबह 07 बजे मंदिर मे पूजा करने आया तो माताजी की अष्ट भूजा वाली संगमरमर की मूर्ति खंडित अवस्था में दिखी। कोई अज्ञात व्यक्ति ने उनकी धार्मिक भावनाओं को ठेंस पहुंचाने के उद्देश्य से माताजी की मूर्ति खंडित कर दिया था, जिसकी रिपोर्ट फरियादी ने तिलावद चौकी थाना अवंतिपुर बड़ोदिया पर की थी। शनिवार 12 सितंबर को आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया जहां से आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*